वीगर मुसलमानों को ‘अलग कैंप’ में रखने के फैसले को चीन ने ठहराया जायज़

वीगर मुसलमानों को ‘अलग कैंप’ में रखने के फैसले को चीन ने ठहराया जायज़

चीन के अशांत शिनजियांग प्रांत में हजारों वीगर मुसलमानों को ‘व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थानों’ में रखने को लेकर दुनिया भर में खूब आलोचना हो रही है. हालांकि चीन सरकार ने अपने इस विवादस्पद कदम को यह कहते हुए जायज ठहराया कि इस कठोर कदम से पिछले 21 महीने में वहां आतंकवादी हमले रुक गए हैं.

अफगानिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर से सटा शिनजियांग प्रांत पिछले कई साल से अशांत है. यह तुर्क मूल के वीगर मुसलमानों की बहुलता वाला इलाका है, जो हान चीनियों को बड़े पैमाने पर बसाए जाने का विरोध कर रहे हैं.

संयुक्त राष्ट्र की जिनेवा स्थित नस्ली भेदभाव उन्मूलन समिति ने कहा है कि वह शिनजियांग क्षेत्र में वीगर और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यकों की हिरासत से चिंतित है. उसने उन्हें तत्काल रिहा करने की मांग की.

शिनजियांग वीगर स्वायत्तशासी क्षेत्र की सरकार के अध्यक्ष शोहरत जाकिर ने कहा, ‘अब शिनजियांग आम तौर पर स्थिर है और हालात काबू में हैं और सुधर रहे हैं. पिछले 21 माह के दौरान कोई आतंकवादी हमले नहीं हुए हैं और जनसुरक्षा को खतरे में डालने वाले हमलों समेत आपराधिक मामलों की संख्या में कमी आई है.’ शोहरत खुद भी वीगर हैं

Top Stories