अलग धर्म में विवाह : समीर खान की पत्नी नीलम ने माता-पिता के साथ जाने का फैसला लिया

अलग धर्म में विवाह : समीर खान की पत्नी नीलम ने माता-पिता के साथ जाने का फैसला लिया
Click for full image

समीर खान ने अपने निकाह के सभी दस्तावेज प्रस्तुत किए जबकि नीलम मेहरोलिया ने अदालत को बताया था कि वह पति के ही साथ रहना चाहती है। फिर, एक असाधारण घटनाक्रम में, मेहरोलिया को अलग कक्ष में ले जाया गया और फिर उसके माता-पिता और सरकारी वकील ने तर्क दिया कि वह ‘भ्रमित’ थीं।

फिर महरोलिया ने घोषणा की कि उसने अपना मन बदल लिया है। समीर के साथ इंदौर आकर रहने लगी महू की नीलम काउंसलिंग के बाद माता-पिता के साथ जाने को तैयार हो गई। युवती महू के ही समीर के साथ निकाह करके अपनी मर्जी से इंदौर आ गई थी। युवती के परिजन उसे वापस ले गए।

युवक ने कोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की। इसमें कहा कि उसने युवती से निकाह कर लिया है। वह उसके साथ रहना चाहती है लेकिन उसके माता-पिता जबरन ले गए। युवती ने कोर्ट को बताया कि वह युवक के साथ रहना चाहती है। शासन की तरफ से कोर्ट में गुहार लगाई गई कि मामला संवेदनशील और भावनाओं से जुड़ा है इसलिए युवती की काउंसलिंग की अनुमति दी जाए।

कोर्ट की अनुमति के बाद शासकीय अधिवक्ता अर्चना खेर और पूर्व शासकीय अधिवक्ता मिनी रवींद्रन ने चार घंटे काउंसलिंग की। इसके बाद दोपहर तीन बजे कोर्ट ने बयान लिए। युवती ने कहा, वह माता-पिता के साथ जाना चाहती है। इस पर कोर्ट ने उनके साथ भेज दिया।

24 वर्षीय खान अपनी पत्नी को वापस लाने के लिए कानूनी विकल्पों पर विचार कर रहा है, जबकि मेहरोलिया के माता-पिता उसे कभी भी वापस जाने की अनुमति नहीं देंगे। माता-पिता को विश्व हिन्दू परिषद का समर्थन मिला है, जिसने इसे ‘लव जिहाद’ का मामला घोषित किया था। विहिप नेता प्रकाश खंडेलवाल कहते हैं कि हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि शादी टूट जाए।

सरकारी वकील अर्चना खेर ने कहा कि इस शादी से महू में कानून-व्यवस्था का मुद्दा उत्पन्न होगा। खेर का मानना ​​है कि मेहरोलिया ने खुद को बदल दिया है कि यह विवाह दोनों परिवारों के लिए समस्या पैदा करेगा। अदालत ने खान द्वारा दिए गए विवाह दस्तावेजों पर कोई सवाल नहीं उठाया और कहा कि उनको कानून का सहारा लेने की स्वतंत्रता है।

3 सितंबर, 2017 को दोनों भाग गए थे और तीन दिन बाद शादी कर ली थी। खान के अनुसार मेहमानों में उनके कुछ रिश्तेदारों को शामिल किया गया था। उनकी मां शबनम खान कहती हैं कि वे मौजूद नहीं थे क्योंकि उन्हें सूचित नहीं किया गया था। हालांकि, शबनम कहती हैं, उनको शादी के साथ कोई समस्या नहीं है।

Top Stories