बार- बार हमले की धमकी देकर ट्रम्प नाकामियों को छुपा रहे हैं- ईरान

बार- बार हमले की धमकी देकर ट्रम्प नाकामियों को छुपा रहे हैं- ईरान

ईरान ने कहा है कि हम पर हमले की धमकी देकर ट्रम्प अपनी असफलताओं को छुपाने की कोशिश कर रहे हैं

पार्स टुडे डॉट कॉम के अनुसार, ईरानी रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमीर हातेमी ने अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प की तेहरान पर हमले की धमकी को गीदड़ भभकी क़रार दिया है। उन्होंने क, ईरान पर हमले की धमकी देकर ट्रम्प अपनी असफलताओं को छुपाने की कोशिश कर रहे हैं।

पहले ट्रम्प ने दी थी धमकी
बुधवार को हातेमी ने क, ट्रम्प यह धमकी देकर अपनी असफल नीतियों से अमरीकी जनता का ध्यान हटाने का नाकाम प्रयास कर रहे हैं।ग़ौरतलब है कि ट्रम्प ने हाल ही में व्हाईट हाउस में कैबिनेट बैठक में कहा थाः फ़ार्स खाड़ी में ईरान ने अगर उकसाने वाली गतिविधियां जारी रखीं तो हम ईरान पर हमला कर देंगे।

नये ज़ंग की शुरुआत करने की बात कही
पत्रकारों ने जब अमरीकी सैनिकों को मध्यपूर्व से बाहर निकालने के ट्रम्प के फ़ैसले के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि हम अमरीकी सैनिकों की घर वापसी पर काम कर रहे हैं, लेकिन अमरीका जल्दी ही एक नया युद्ध शुरू कर सकता है।

ट्रम्प का कहना थाः हमें एक नया युद्ध शुरू करना पड़ सकता है। हम किसी भी समय की तुलना में आज अधिक तैयार हैं। अगर ईरान ने कुछ गड़बड़ की तो उसे ऐसा झटका लगेगा कि इससे पहले कभी नहीं लगा होगा।

ईरान ने दी चेतावनी
ईरानी रक्षा मंत्री ने अमरीका को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर वाशिंगटन ने किसी तरह की कोई ग़लती की तो उसे मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा। हातेमी ने कहा, अगर उन्होंने कोई ग़लती की तो उन्हें ऐसा जवाब दिया जाएगा कि उन्हें पहले की तुलना में कहीं अधिक शर्मिंदा होना पड़ेगा।

दुश्मन ने हमला किया तो कीमत चुकानी होगी
उनका कहना था कि अपने राष्ट्र की रक्षा के लिए ईरानी सेनाएं पूरी तरह से तैयार हैं और किसी भी ख़तरे की स्थिति में उसका मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा। इससे पहले मंगलवार को ईरानी सशस्त्र सेनाओं के प्रमुख मेजर जनरल मोहम्मद बाक़री ने भी चेतावनी दी थी कि अगर दुश्मनों ने ईरान पर हमला किया तो उन्हें इसकी भारी क़ीमत चुकानी पड़ेगी।

इससे पहले भी अमेरिका ईरान को दे चुका है धमकी
यह पहली बार नहीं है कि अमरीका ने ईरान पर हमले की धमकी दी हो, लेकिन यह सच्चाई भी किसी से छिपी नहीं है कि अमरीका में ईरान पर हमला करने का साहस नहीं है, अगर ऐसा संभव होता तो वह बहुत पहले अपनी इस दिली ख़्वाहिश को पूरा कर चुका होता।

ड्रोन गिराने के बाद बढ़ा तनाव
जून में जब ईरान ने अमरीका के आधुनिकतम ड्रोन विमान ग्लोबल हॉक को मार गिराया था तो तब भी अमरीकी राष्ट्रपति ने ईरान पर हमला करने की धमकी दी थी, लेकिन वह इसका साहस नहीं कर पाए और अपनी धमकी वापस ले ली।

Top Stories