Monday , December 11 2017

‘ISIS को हराना है तो लीबिया को हथियार प्रदान करें’: अमेरिका व अन्य

वियाना: अमेरिका और अन्य वैश्विक ताकतों का कहना है कि वह लीबिया की सरकार को हथियार उपलब्ध कराने को तैयार हैं ताकि वे अपने आप को इस्लामिक स्टेट कहलाने वाली चरमपंथी संगठन के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई कर सके।

वियाना में बात करते हुए अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने कहा कि विश्व शक्तियां लीबिया पर लगी हथियार प्रतिबंध समाप्त करने में लीबिया की मदद करेंगी।उन्होंने कहा कि इस्लामिक स्टेट लीबिया के लिए एक नया खतरा है और यह जरूरी है कि इसे रोका जाए।पिछले महीने लीबिया ने चेतावनी दी थी कि अगर इस्लामिक स्टेट को न रोका गया तो वह पूरे देश पर काबिज हो जायेंगे।

विश्व शक्तियों के साथ मुलाकात के बाद जॉन केरी ने कहा कि लीबिया की सरकार देश को एकजुट कर सकती है। यह एक उपकरण है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि महत्वपूर्ण प्रतिष्ठान … प्रतिनिधि प्राधिकरण के नियंत्रण में रहें। ‘ उनका कहना था कि यही एक तरीका है इस्लामिक स्टेट को हराने के लिए।याद रहे कि लीबिया में हथियार खरीदने के प्रतिबंध हटाने का अनुरोध संयुक्त राष्ट्र समिति ही पारित कर सकती है। हालांकि लीबिया की ओर से की जाने वाली आवेदन लगता है कि यह विश्वास दिलाया गया है कि यह अनुरोध स्वीकार हो जाएगी।

याद रहे कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने हाल ही में स्वीकार किया था कि लीबिया में कर्नल गद्दाफ़ी को अपदस्थ करने के बाद स्थिति की पेशबंदी न करना उनके अध्यक्ष पद की सबसे खराब गलती थी।राष्ट्रपति ओबामा अमेरिकी टीवी चैनल फोकस न्यूज पर एक साक्षात्कार में अपने कार्यकाल के दौरान किए गए उपायों के बारे में बात कर रहे थे।

राष्ट्रपति ओबामा ने गद्दाफ़ी को सत्ता से अलग करने के बाद की स्थिति के बारे में उचित योजना न करने पर अपनी गलती के बयान के बावजूद लीबिया में हस्तक्षेप का बचाव किया और कहा कि यह सही कदम था।

अमेरिका और उसके पश्चिमी सहयोगियों ने लीबिया में 2011 में नागरिकों की सुरक्षा के लिए लीबिया पर हवाई हमले किए थे।

लीबिया में पूर्व राष्ट्रपति गद्दाफ़ी की हत्या के बाद लीबिया अराजकता का शिकार हो गया और विरोधी गुटों के बीच गृहयुद्ध शुरू हो गई और दो समानांतर संसद और सरकार की स्थापना कर ली गईं।

TOPPOPULARRECENT