इस्लामिक बैंकिंग धोखाधड़ी: कई बड़े नेताओं के नाम आने से मचा हड़कंप!

इस्लामिक बैंकिंग धोखाधड़ी: कई बड़े नेताओं के नाम आने से मचा हड़कंप!

कर्नाटक में निवेशकों के करीब 4,000 करोड़ वापस ना करने वाले मंसूर खान जांच शुरू होने पर दुबई चले गए थे. जब वो भारत वापस लौटे तो दिल्ली हवाईअड्डे पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया. इस घोटाले में कई नेताओं के भी नाम सामने आए हैं.

भारत के प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 19 जुलाई की सुबह मोहम्मद मंसूर खान को गिरफ्तार कर लिया है. मंसूर खान कर्नाटक में हुए आईएमए पॉन्जी घोटाले में मुख्य आरोपी हैं. इस घोटाले में कर्नाटक के कई नेताओं के भी नाम सामने आ रहे हैं.

घोटाले की जांच शुरू होते ही मंसूर खान भारत छोड़ दुबई चले गए थे. दुबई से कुछ दिन पहले एक वीडियो संदेश जारी कर मंसूर ने कहा कि उन्हें दिल की एक गंभीर बीमारी हो गई है. इसके लिए उन्हें इलाज की सख्त जरूरत है इसलिए वो भारत वापस लौट रहे हैं. भारत लौटते ही उन्हें दिल्ली हवाईअड्डे पर गिरफ्तार कर लिया गया.

मंसूर खान ने 2006 आई मॉनेटरी एडवायजरी ग्रुप नाम से एक प्राइवेट फर्म चालू की. लोग इसे इस्लामिक बैंक भी बोलते थे. बैंक के आगे इस्लामिक शब्द लगाने का मतलब था कि यह बैंक इस्लाम के नियम कायदों को मानकर काम करता है.

इस्लाम धर्म के धर्म ग्रंथ कुरान के सूरत बकरा में लिखा हुआ है कि अल्लाह ने खरीद-फरोख्त को हलाल और सूद यानी ब्याज को हराम माना है. इस्लाम के मानने वालों में ब्याज लेना और देना दोनों पाप माना जाता है. इसमें आगे लिखा है कि अल्लाह सदाकत यानी खैरात को बढ़ाते हैं. इस्लाम में ब्याज लेना या देना हलाल और अल्लाह के उसूलों के विरुद्ध माना जाता है.

कुरान की इस बात को मानने वाले मुस्लिम ब्याज नहीं लेते हैं. इस्लाम की शिक्षाओं को मानने वाले मुस्लिम बचत खाते की जगह चालू खाता खुलवाते हैं. चालू खाते में बैंक ब्याज नहीं देता.

ब्याज ना लेने-देने वाले मुस्लिमों के लिए मंसूर ने निवेश स्कीम बनाई. उसका दावा था कि इस स्कीम में निवेश करने वाले लोगों को 36 से 64 प्रतिशत तक का रिटर्न मिलेगा. यह स्कीम शरीयत के मुताबिक होगी ऐसे में इसे हराम भी नहीं माना जा सकेगा. मंसूर का कहना था कि वो पैसा सोना खरीदने, रीयल एस्टेट, शिक्षा और दूसरे व्यापारों में निवेश करेंगे जहां से वो निवेशकों को अच्छा मुनाफा दे सकेंगे.

कर्नाटक में निवेशकों के करीब 4,000 करोड़ वापस ना करने वाले मंसूर खान जांच शुरू होने पर दुबई चले गए थे. जब वो भारत वापस लौटे तो दिल्ली हवाईअड्डे पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया. इस घोटाले में कई नेताओं के भी नाम सामने आए हैं.

भारत के प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 19 जुलाई की सुबह मोहम्मद मंसूर खान को गिरफ्तार कर लिया है. मंसूर खान कर्नाटक में हुए आईएमए पॉन्जी घोटाले में मुख्य आरोपी हैं. इस घोटाले में कर्नाटक के कई नेताओं के भी नाम सामने आ रहे हैं.

घोटाले की जांच शुरू होते ही मंसूर खान भारत छोड़ दुबई चले गए थे. दुबई से कुछ दिन पहले एक वीडियो संदेश जारी कर मंसूर ने कहा कि उन्हें दिल की एक गंभीर बीमारी हो गई है. इसके लिए उन्हें इलाज की सख्त जरूरत है इसलिए वो भारत वापस लौट रहे हैं. भारत लौटते ही उन्हें दिल्ली हवाईअड्डे पर गिरफ्तार कर लिया गया.

मंसूर खान ने 2006 आई मॉनेटरी एडवायजरी ग्रुप नाम से एक प्राइवेट फर्म चालू की. लोग इसे इस्लामिक बैंक भी बोलते थे. बैंक के आगे इस्लामिक शब्द लगाने का मतलब था कि यह बैंक इस्लाम के नियम कायदों को मानकर काम करता है.

इस्लाम धर्म के धर्म ग्रंथ कुरान के सूरत बकरा में लिखा हुआ है कि अल्लाह ने खरीद-फरोख्त को हलाल और सूद यानी ब्याज को हराम माना है. इस्लाम के मानने वालों में ब्याज लेना और देना दोनों पाप माना जाता है. इसमें आगे लिखा है कि अल्लाह सदाकत यानी खैरात को बढ़ाते हैं. इस्लाम में ब्याज लेना या देना हलाल और अल्लाह के उसूलों के विरुद्ध माना जाता है.

कुरान की इस बात को मानने वाले मुस्लिम ब्याज नहीं लेते हैं. इस्लाम की शिक्षाओं को मानने वाले मुस्लिम बचत खाते की जगह चालू खाता खुलवाते हैं. चालू खाते में बैंक ब्याज नहीं देता. ब्याज ना लेने-देने वाले मुस्लिमों के लिए मंसूर ने निवेश स्कीम बनाई.

उसका दावा था कि इस स्कीम में निवेश करने वाले लोगों को 36 से 64 प्रतिशत तक का रिटर्न मिलेगा. यह स्कीम शरीयत के मुताबिक होगी ऐसे में इसे हराम भी नहीं माना जा सकेगा. मंसूर का कहना था कि वो पैसा सोना खरीदने, रीयल एस्टेट, शिक्षा और दूसरे व्यापारों में निवेश करेंगे जहां से वो निवेशकों को अच्छा मुनाफा दे सकेंगे.

मंसूर की यह स्कीम चल निकली. कई हजार लोगों ने इस स्कीम में निवेश किया. मंसूर के पास करीब 4,000 करोड़ रुपये इकट्ठा हो गए. हालांकि कुछ लोगों ने इस स्कीम पर आपत्ति जताई और इसे कालेधन को सफेद करने की एक योजना बताया.

Top Stories