सऊदी अरब का इस्लामी सैन्य गठबंधन ईरान विरोधी गठबंधन नहीं बनना चाहिए

सऊदी अरब का इस्लामी सैन्य गठबंधन ईरान विरोधी गठबंधन नहीं बनना चाहिए
Click for full image

पिछले सप्ताह मिस्र के अलरोज़ा मस्जिद पर हमले में 305 लोग मारे गए और 190 से अधिक लोग घायल हुए थे, हमें यह याद दिलाता है कि पश्चिम एशिया और उत्तरी अफ्रीकी क्षेत्र में यह भयानक हमला था, लेकिन इस हमले की ज़िम्मेदारी किसी समूह ने नहीं ली है। लेकिन यह देखते हुए कि उनका निशाना अल्पसंख्यक सूफी मुस्लिम समुदाय था, तो इस हमले में इस्लामी राज्य (IS) के शामिल होने का संदेह है। आईएएस ने इराक और सीरिया में अपने अधिकांश क्षेत्रों को खो दिया है, लेकिन यह आतंकवादी समूह को अंत लिखना समयपूर्व होगा, जिसे ‘खलीफा’ कहा जाता है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

यह इस संदर्भ में सऊदी अरब के नेतृत्व में गठन होने वाली इस्लामी सैन्य गठबंधन (आईएमए) को लाभ मिलता है। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान अल सऊद ने 2015 में इसका गठन किया था, जो राज्य के रक्षा मंत्री भी हैं, आईएमए ने रविवार को रियाद में अपनी पहली उच्चस्तरीय बैठक की। राजकुमार ने “धरती के चेहरों से मिटा दिए जाने तक आतंकवादियों का पीछा” करने की कसम खाई, और कहा कि राष्ट्रों के बीच समन्वय की कमी “इस गठबंधन के साथ आज समाप्त हो जाती है”।

आईएमए की अपनी योग्यता है, लेकिन इसकी संरचनात्मक खामियां गठबंधन को कमजोर कर सकती हैं। यह मुख्य रूप से सुन्नी राज्यों का एक क्लब है, जिससे ‘आतंकवाद’ और ‘आतंकवादियों’ की परिभाषा पर प्रश्न चिन्ह है। सऊदी अरब ईरान, इराक और सीरिया के बिना क्षेत्र में आतंकवाद को कैसे खत्म करने कि योजना बना सकते हैं ?

Top Stories