Sunday , July 22 2018

इजरायली सेना ने दो सैनिकों को मारा, गाँव में घुस कर किया हमला

संयुक्त राष्ट्र एजेंसी के मुताबिक, मार्च के पहले दो हफ्तों के दौरान, इजरायली सैनिकों ने पश्चिमी तट और गाज़ा पट्टी में तीन फिलिस्तीनी नागरिकों को मार दिया. तीन फिलिस्तिनियों में एक प्रदर्शक और एक किसान शामिल था. उसी दो हफ्ते की अवधि में इजराइल सैनिकों ने 500 फिलीस्तीनी को ज़ख्मी किया है. संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक, सिर्फ 2018 में इजराइली सैनिकों ने 18 बेगुनाह फिलिस्तीनियों को मौर के घाट उतारा है और 1000 फिलिस्तीनियों को गंभीर रूप से घायल किया है. पिछले हफ्ते इजराइल ने ड्रोन का इस्तेमाल करके गाज़ा सीमा से फिलिस्तीनियों आंसू गैस से हमला किया था जिसमें दर्ज़नों लोग घायल हो गये थे. इजराइल के खिलाफ UN रिपोर्ट 10 मार्च को UN ने एक रिपोर्ट जारी की जिसमें कहा गया कि सशस्त्र इजरायल के कब्ज़ा बलों ने फिलिस्तीन में प्रवेश के बाद संघर्ष के दौरान 22 वर्षीय फिलिस्तीनी को ‘नांबुस के पास उरीफ गांव’ में बेवजह गोली चला दी जिससे उसकी मौके आर ही मौत हो गयी. फिर 12 मार्च को, 24 साल के एक फिलीस्तीनी को हिब्रोन में गोली मार दी गई, क्योंकि इजराइली कब्ज़ा बल इस फिलिस्तीनी से विरोध प्रदर्शन की मांग कर रहे थे. फिलिस्तीनियों ने इस बार का काफी विरोध किया. आपको बता दें कि वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया पहले भी फिलिस्तीन हो रहे संघर्षों को कवर करता है और यह जा रहेगा. गाजा पट्टी में, बीच में, “एक 59 वर्षीय फ़िलिस्तीनी किसान को 4 मार्च को इजरायली सेना”के गाज़ा के पास काम कर रहे इस किसान को मौत के घात उतारा था.
TOPPOPULARRECENT