राजनीतिक दलालों के झुंड से मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को आजाद कराया जाए

राजनीतिक दलालों के झुंड से मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को आजाद कराया जाए
Click for full image

अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को लेकर हालिया घटनाओं पर निराश चंद उर्दू पत्रकारों ने अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी को सोशल मीडिया के माध्यम से स्थिति स्पष्ट करने के लिए एक खुला पत्र लिखा है। पटना में 15 अप्रैल को ‘दीन बचाओ देश बचाओ रैली’ को लेकर लोगों ने एक ‘सौदा’ करने का आरोप लगाया जिसमें रहमानी द्वारा एमएलसी सीट को अपने करीबी सहयोगी को देने की बात सामने आई है।

इस पत्र में खालिद अनवर को संदिग्ध व्यक्ति बताया गया है जो भूमाफिया है और कब्र की जमीन पर नहीं कब्ज़ा किया है और वह लंबे समय से मौलाना रहमानी के बहुत करीब है। संभावना है कि नीतीश ने तीसरे मोर्चे का नेतृत्व किया, जिसमें राम विलास पासवान, पप्पू यादव इत्यादि शामिल हैं उन्हें ‘धर्मनिरपेक्ष’ वोटों में सेंध लगाने और मुस्लिम वोटों को विभाजित करने के लिए भी तैनात किया जाएगा, जिससे मुस्लिम वोटों को विभाजित किया जा सकेगा।

बिहार में बीजेपी की जीत को आसान बनाना और मुस्लिमों को बेवकूफ़ बनाकर तीसरा मोर्चा एनडीए में फिर से शामिल हो जाएगा। एक अन्य अटकल यह है कि इसके साथ, नीतीश एनडीए के भीतर अपनी शक्ति बढ़ा सकते हैं। अब यह स्पष्ट है कि कुछ “राजनीतिक दलालों” ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड में घुसपैठ की है और अपने ‘राजनीतिक महत्वाकांक्षा’ को आगे बढ़ाने के लिए इस मंच का उपयोग किया है।

मुस्लिम हलकों में यह भी आरोप लगाया गया है कि बोर्ड के वर्तमान महासचिव संदिग्ध व्यक्तियों को संरक्षित कर रहे हैं और बोर्ड से उनके निष्कासन का विरोध भी कर रहे हैं। इमारत-ए-शरिया द्वारा आयोजित बड़ी रैली इसका नवीनतम मामला है। दीन बचाओ, देश बचाओ रैली वास्तव में अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल बोर्ड द्वारा विशेष रूप से मौलाना वली रहमानी द्वारा आयोजित की गई थी।

बताया जाता है कि नीतीश सरकार ने रैली पर कम से कम 40 लाख रुपये खर्च किए और मुख्यमंत्री के करीबी राजनेताओं ने 2 करोड़ खर्च किए। बोर्ड को भारतीय मुसलमानों का एकमात्र सुसंगत मंच माना जाता है। हालांकि, बोर्ड ‘निहित स्वार्थ’ और राजनीतिक लाभ के लिए इसका उपयोग कर रहा है और इससे बोर्ड की छवि को खराब की जा रही है।

मौलाना वली रहमानी द्वारा विवादास्पद तीन तलाक विधेयक के खिलाफ महिलाओं के अभियान को बंद करने का अचानक आया निर्णय भी इससे जुड़ा हो सकता है। बोर्ड के नजदीक सूत्रों ने खुलासा किया कि बोर्ड के एक सदस्य जो मौलाना रहमानी के बहुत करीब हैं, तीन तलाक विधेयक के खिलाफ आंदोलन की घोषणा से पहले मुंबई में जफर सरेशवाला से मिले थे।

इसके अलावा, 2 अप्रैल को मुफ्ती एजाज कासमी के साथ कुछ अन्य मौलाना साथ-साथ टीवी पर दिखाई देने वाले संदिग्ध पात्रों के साथ गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले। जब एक उर्दू दैनिक गृह मंत्री के साथ बैठक की पुष्टि करने की मांग करता है तो स्पष्ट रूप से कहा गया कि ऐसी सभी रिपोर्ट बेकार हैं। इस बीच व्हाट्सएप समूह पर, बोर्ड की महिला विंग अध्यक्ष से राजनाथ सिंह के साथ बैठक के बारे में पूछा गया, उन्होंने ऐसी किसी भी बैठक के बारे में अज्ञानता जाहिर की।

उसी दिन शाम को, बोर्ड ने मौलाना वली रहमानी की तरफ से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की, जिसमें कहा गया था कि तीन तलाक विधेयक के खिलाफ महिलाओं द्वारा सभी आंदोलन बंद किया जाना चाहिए। पत्र में मौलाना रहमानी ने सभी मुस्लिम महिलाओं का धन्यवाद किया। 5 अप्रैल को, शायद जब राजनाथ के साथ मुफ्ती एजाज की बैठक ‘ओपन सीक्रेट’ बन जाती है तो बैठक की एक फोटो को स्पष्टीकरण के तौर साथ मीडिया को जारी किया गया था।

सवाल उठता है कि अगर राजनाथ सिंह के साथ बैठक बोर्ड द्वारा अनुमोदित नहीं की गई थी, तो रामलीला मैदान में विरोध रैली के बाद सार्वजनिक रूप से बनाई गई तस्वीर को जारी करने में क्यों सावधानी बरती। दूसरा, अगर बैठक को महासचिव द्वारा अनुमति दी गई थी तो इसके बारे में अन्य सदस्यों को अंधेरे में क्यों रखा गया था?

यहां उल्लेख करना जरुरी है कि मुफ्ती एजाज और कमल फारूकी दोनों को मौलाना रहमानी के करीब माना जाता है, जिन्होंने पिछले साल बैंगलोर और दिल्ली में रविशंकर से मुलाकात की थी। जब मौलाना रहमानी के साथ यह मुद्दा उठाया गया, तो उन्होंने ‘मुस्लिम मिरर’ से कहा कि उन सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जो बोर्ड की अनुमति के बिना रविशंकर से मिले थे। हालांकि, उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई थी।

Time to free ‘All India Muslim Personal Law Board’ from the clutches of political brokers

(साभार : मुस्लिम मिरर)

Top Stories