Monday , June 25 2018

लोगों के लिए नेतृत्व ही अहम होता है

कांग्रेस के नेतृत्व वाला संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) 2014 में चुनाव हार गया था। अब अगले साल 2019 की लड़ाई के लिए कांग्रेस को क्या ध्यान देना चाहिए। गत दिनों राहुल गांधी ने सिंगापुर में एक दर्शक को बताया कि पार्टी की हार हुई जिसमें नेताओं का अहंकार भी था।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस समाज को एक सिस्टम के तौर पर देखती है और उसे संतुलित रखने की दिशा में काम करती है। गांधी ने जोर देकर कहा कि वह एक ‘नई कांग्रेस’ बनाने के लिए काम करेंगे।

राहुल गांधी ने कथित 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले की तरफ इशारा करते हुए कहा कि 2012 और 2014 के बीच सिस्टम को अस्थिर कर दिया गया। दरअसल, भाजपा ने इस कथित घोटाले के हवाले से कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा था। वास्तव में कांग्रेस नेतृत्व की विफलता रही। आज गठबंधनों को चलाना आसान नहीं है।

उनका कहना था कि अर्थव्यवस्था में कमी आई है जिसके कारण मुद्रास्फीति और व्यापक चालू खाता घाटे में बढ़ोतरी हुई थी। परियोजनाएं मंजूरी के अभाव के कारण पड़ीं हैं। कोई भी सरकार के खिलाफ चुनौती के बिना कुछ भी कह सकता है। सरकार ने अपनी विश्वसनीयता खो दी है।

TOPPOPULARRECENT