Saturday , December 16 2017

ट्रम्प के फ़ैसले को रद्द करने के लिए जामिया अज़हर ने इस्लामी कॉन्फ्रेंस बुलाने की मांग की

मिस्र की सबसे बड़ी धार्मिक दर्सगाह जामिया अल अजहर के प्रमुख डॉ अहमद अल तैयब ने चेतावनी दी है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा अधिकृत बैतूल मुक़द्दस को यहूदी राज्य की राजधानी करार देना बेहद खतरनाक कदम है, और इसके विनाशकारी परिणाम सामने आएंगे। उन्होंने ट्रम्प के फैसले को रद्द करने के लिए विश्व इस्लामी सम्मेलन की भी मांग की है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

शेख अल अजहर द्वारा जारी किए गए एक बयान में बैतूल मुकद्दस के मामले के लिए विश्व इस्लामी सम्मेलन बुलाने की मांग की है, और कहा है कि अमेरिकी सरकार का निर्णय पीड़ित फिलीस्तीनी राष्ट्र के मौलिक अधिकारों और अरब देशों के मांगों, बैतूल मुक़द्दस की इस्लामी पहचान के खिलाफ खुला षड़यन्त्र है। बैतूल मुक़द्दस इस्लामी दुनियां की पहचान है, जिसमें मुसलमानों का तीसरा हरम और पहला क़िबला मस्जिदे अक्सा स्थित है।

अमेरिका ने यरूशलेम के बारे में विवादित फैसला देकर 1.5 अरब मुसलमानों की भावनाओं को नजरअंदाज कर दिया। मुसलमान मिसरा रसूल सल्लाहू अलैहे वसल्लम और करोड़ों अरब ईसाई अपनी पूजा स्थलों की बदौलत बैतूल मुक़द्दस को हमेशा अपने सीने में बसाए रखेंगे।

शेख अजहर ने कहा कि बैतूल मुक़द्दस अधिकृत क्षेत्र है और उसकी पहचान केवल फिलीस्तीन और अरब दुनिया से जुड़ा हुआ है। दुनिया की न्यायप्रिय और बुद्धिजीवी इस महत्वपूर्ण मुद्दे के समाधान पर ध्यान दें ताकि करोड़ों मुसलमान और लाखों फिलीस्तीनी अपने पवित्र स्थान से वंचित न हो सकें।

TOPPOPULARRECENT