Sunday , April 22 2018

जम्मू : नौशेरा जिले से रोहिंग्या शरणार्थियों को स्थानांतरण करने की मांग

श्रीनगर। जम्मू उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन (जेएचसीबीए) के नेतृत्व में एक समूह ने सरकार की जम्मू विरोधी नीतियों के विरोध में शहर में हड़ताल की। जम्मू में बसे रोहिंग्या शरणार्थियों के स्थानांतरण की मांग के लिए हड़ताल की गई। साथ ही जम्मू-कश्मीर पुलिस की अपराध शाखा से कठुआ में आठ वर्षीय लड़की की हत्या की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो से कराने की मांग की।

फरवरी 2015 में पीडीपी-बीजेपी गठबंधन ने सत्ता संभालने के बाद से सीमावर्ती इलाकों के निवासियों को पाकिस्तान से बार-बार गोलीबारी का सामना करना पड़ रहा है, जिसने अंतरराष्ट्रीय सीमा और जम्मू में नियंत्रण रेखा को बढ़ा दिया है।

जम्मू ने मुख्य रूप से लोगों ने विधानसभा चुनाव में पीडीपी के लिए भाजपा और कश्मीर के लिए वोट दिया था। जम्मू में लोग दावा कर रहे हैं कि गठबंधन विफल रहा है। हम सड़कों पर आने के लिए मजबूर हुए क्योंकि सरकार विफल रही है।

जेएचसीबीए के अध्यक्ष बीएस स्लैथिया ने कहा कि भाजपा हर चीज पर सहमत है लेकिन जमीनी तौर पर कुछ भी नहीं कर रही है। रोहिंग्या से राष्ट्रीय सुरक्षा खतरे में हैं और कुछ कश्मीरी संगठन उन्हें यहां समर्थन दे रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT