Saturday , April 21 2018

कठुआ बलात्कार हत्या मामले में वकीलों ने आरोप पत्र दाखिल करने से पुलिस को रोका

जम्मू। कठुआ जिले में एक समुदाय के वकीलों के एक समूह ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर पुलिस की अपराध शाखा से सात आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल करने से रोक दिया जिन्होंने तीन महीने पहले एक अन्य समुदाय की आठ साल की लड़की साथ बलात्कार उसकी हत्या कर दी थी।

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस अपराध शाखा की डीएनए परीक्षण, फोरेंसिक साक्ष्य और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर रसाना गाँव में हत्या से पहले उस लड़की को कई दिन तक लिए बंदी बनाया गया और बलात्कार किया गया।

इस भयानक घटना ने राज्य में दोनों समुदायों के सांप्रदायिक तनाव और विरोध की शुरुआत की। सोमवार को जैसे ही आरोपी के साथ क्राइम ब्रांच की विशेष जांच दल कठुआ न्यायालय परिसर में पहुंचे, वहीं वकीलों ने विरोध प्रदर्शन शुरू किया।

पुलिस दल ने अपराध शाखा की टीम को अदालत में प्रवेश करने के लिए रास्ता बनाने की कोशिश की, लेकिन उनके प्रयास विफल रहे। वकील हिमांशु शर्मा ने कहा कि अधिवक्ताओं ने अपराध शाखा के अधिकारियों को आरोपपत्र दाखिल करने से रोका क्योंकि वे इस मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे।

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, ‘उनको और उनके राजनीतिक आकाओं पर शर्म आनी चाहिए। एक 8 साल की लड़की को बलात्कार और हत्या कर दी जाती है और ये तथाकथित वकील न्याय को नहीं देखते हैं। अपराध शाखा के वरिष्ठ अधिकारी टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं थे।

TOPPOPULARRECENT