जॉर्डन ने शांति समझौते के तहत 25 सालों के लिए इजराइल को दी थी लीज पर जमीन, रद्द करने का फैसला !

जॉर्डन ने शांति समझौते के तहत 25 सालों के लिए इजराइल को दी थी लीज पर जमीन, रद्द करने का फैसला !
Click for full image

1994 के शांति समझौते के अनुरूप, जॉर्डन ने दो सीमावर्ती क्षेत्रों में इज़राइल को निजी स्वामित्व अधिकार प्रदान किए। हालांकि, जॉर्डन किंग ने नोट किया कि वह राष्ट्रीय हितों का हवाला देते हुए भूमि को पुनः प्राप्त करना चाहता है। जॉर्डन के राजा अब्दुल्ला द्वितीय ने रविवार को घोषणा की कि जॉर्डन ने इज़राइल के साथ 1994 की शांति संधि के दो अनुबंधों को रद्द करना चाहता है, जिसके तहत बाकूरा/नाहरयम और अल-गमर/ज़ोफर क्षेत्रों के इजरायली पट्टे को समाप्त करना है ।

राज्य के स्वामित्व वाली जॉर्डन न्यूज़ एजेंसी (पेट्रा) द्वारा उद्धृत जॉर्डन किंग ने कहा, कि “बाकुरा और गमर जॉर्डन के हैं और जॉर्डनियन इसमें बने रहेंगे, और हम अपनी भूमि पर पूर्ण संप्रभुता स्थापित करेंगे।” अब्दुल्ला द्वितीय ने कहा, “इस तरह के कठिन क्षेत्रीय परिस्थितियों में हमारी प्राथमिकताएं हमारे हितों की रक्षा कर रही हैं जो जॉर्डन और जॉर्डनियों के लिए जरूरी हैं।” उन्होंने कहा कि इजरायल को इस फैसले से अवगत करा दिया गया है।

इस कदम के जवाब में, प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने पट्टे को एक्सटेंड करने के लिए जॉर्डन से बात करने के लिए अखबार हैरेटज़ द्वारा उद्धृत किया गया है। उन्होंने कहा, “इसमें कोई संदेह नहीं है कि समझौता एक महत्वपूर्ण संपत्ति है,” उन्होंने जॉर्डन और मिस्र के साथ शांति संधि की प्रशंसा करते हुए कहा, कि “यह समझौता क्षेत्रीय स्थिरता के लिए जरुरी है। दोनों क्षेत्र इज़राइल-जॉर्डन सीमा पर स्थित हैं; इजरायली किसानों को 1994 के शांति समझौते के तहत 25 साल की अवधि के लिए निजी भूमि का स्वामित्व का अधिकार इजराइल के लिए मंजूरी दे दी गई थी, जिसके तहत दोनों देशों के बीच लंबी भूमि और जल विवादों को सुलझा लिया गया था।

1994 के समझौते के बाद, जॉर्डन इजरायल के साथ राजनयिक संबंध स्थापित करने के लिए दूसरा अरब देश (मिस्र के बाद) बन गया था । इस सौदे ने अम्मान को देश में अमेरिकी आर्थिक और सैन्य सहायता के लिए मार्ग प्रशस्त करने में मदद की। हालांकि, हाल के वर्षों में इजरायल-जॉर्डन संबंध तनावग्रस्त है, खासकर अम्मान के रुख के कारण यरूशलेम के मुद्दे पर । इस साल की शुरुआत में, जॉर्डन के राजा अब्दुल्ला द्वितीय ने पुष्टि की कि पूर्वी यरूशलेम भविष्य के फिलिस्तीनी राज्य की राजधानी होनी चाहिए, जबकि इज़राइल यरूशलेम को अपनी आधिकारिक राजधानी मानता है।

Top Stories