बिहार के सबसे बड़े अस्पताल के जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल अब भी जारी, 30 घंटे में 17 मरीज़ों की मौत

बिहार के सबसे बड़े अस्पताल के जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल अब भी जारी, 30 घंटे में 17 मरीज़ों की मौत
Click for full image

पबिहार की राजधानी पटना में स्थित सूबे के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गयी है। अब तक इलाज के अभाव में 30 घंटे के अंदर 17 मरीजों की मौत हो गयी है। बताया जा रहा है कि कई मरीजों की हालत गंभीर है।

इधर, पटना के जूनियर डॉक्टरों के समर्थन में नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल, पटना और दरभंगा मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर भी हड़ताल पर चले गये हैं। जानकारी के मुताबिक मरीजों में त्राहिमाम की स्थिति है। निजी क्लिनिकों में दलाल चांदी काट रहे हैं। वहीं, सरकार की ओर से अभी तक कोई प्रयास नहीं किया गया है।

बता दें कि मेडिकल छात्रों पर पीजी मैट की काउंसेलिंग के दौरान हुए लाठीचार्ज के विरोध में बुधवार से पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गये हैं। जानकारी के मुताबिक हड़ताल की वजह से इलाज के अभाव में बुधवार को 12 मरीजों की मौत हो गयी।

वहीं, गुरुवार को पांच और मरीजों के मौत की खबर मिली है। बुधवार को इमरजेंसी वार्ड में एक भी ऑपरेशन नहीं हो सका है और ओपीडी से करीब 500 मरीजों को बिना इलाज लौट जाना पड़ा। वार्डों में भरती 100 मरीज दूसरे अस्पताल चले गये। हालांकि, इमरजेंसी में रोज की तरह 400 नये मरीजों का इलाज हुआ। जूनियर डॉक्टरों ने गुरुवार को भी हड़ताल पर रहने का एलान किया है।

Top Stories