Tuesday , December 12 2017

VIDEO- ‘पद्मावती’ के विरोध के नाम पर वसूली की दुकान चला रही करणी सेना

‘इंडिया टुडे की इंवेस्टीगेशन टीम ने असली दुनिया के उन खलनायकों का पर्दाफाश किया जिन्होंने ‘चित्तौड़ की रानी’ यानी इस फिल्म को बंधक बनाने की कोशिश की थी.

करणी सेना के कार्यकर्ता संजय लीला भंसाली की पीरियड फिल्म ‘पद्मावती’ में रानी पद्मावती के चित्रण को लेकर लंबे समय से विऱोध करते रहे हैं.

इसी साल जनवरी में करणी सेना से जुड़े लोगों ने जयपुर में भंसाली पर हमला किया था और फिल्म के सेट पर उत्पात मचाया था. दो महीने बाद दूसरे हमले में कोल्हापुर में ‘पद्मावती’ के सेट को जला दिया गया.

 

बता दें कि ‘पद्मावती’ का कथानक आक्रांता अलाऊद्दीन खिलजी की ओर से चित्तौड़ की रानी पद्मावती को अगवा करने की कोशिशों पर आधारित है. फिल्म में इन दोनों किरदारों के बीच कथित रोमांटिक ड्रीम सीक्वेंस को लेकर कुछ राजपूत संगठनों में नाराजगी बताई जाती है.

हालांकि भंसाली के प्रोडक्शन हाउस की ओर से पहले ही ये साफ किया जा चुका है कि फिल्म में इस तरह का कोई सीन नहीं. फिर भी करणी सेना के सदस्यों ने शनिवार को फिल्म के पोस्टर जलाए. उनका आरोप है कि फिल्म में इतिहास को विकृत किया गया है. अनैतिक पहरेदारी के नाम पर कला और मनोरंजन पर अपना फरमान लादने की जहां कोशिश की जा रही हैं, वहीं इंडिया टुडे की स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम ने जांच से पता लगाया है कि अधिकतर ‘पद्मावती’  विरोधी हमले किसी भी वजह से किए हो सकते हैं लेकिन इनसे सम्मान का कोई लेना देना नहीं था.

इंडिया टुडे नेटवर्क के अंडरकवर रिपोर्टर्स जून में श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी तक पहुंचे. गोगामेड़ी भंसाली की फिल्म पद्मावती के सबसे मुखर और कट्टर आलोचकों में से एक हैं. गोगामेड़ी ने खुल्लमखुल्ला फिल्म के निर्माताओं को धमकी भी दी.

गोगामेड़ी का ग्रुप अपनी वेबसाइट पर 16 राज्यों में अपने पैर जमाने का दावा करता है.  गोगामेड़ी के जयपुर स्थित घप में अंडर कवर रिपोर्टर्स गोगामेड़ी से मिले और खुद को बॉलिवुड के एक प्रोडक्शन हाउस के एजेंट के तौर पर पेश किया. उन्होंने काल्पनिक तौर एक फिल्म बनाने की इच्छा जताई जिसका कथानक मुगल बादशाह औरंगजेब और एक राजपूत सेनानायक की पत्नी के बीच प्रेम पर आधारित हो. ये काल्पनिक प्रस्ताव सुनने के बाद भी गोगामेड़ी के चेहरे पर ऐसा कोई भाव नहीं आया जिससे नाराजगी या क्रोध जैसा कुछ झलकता हो. इसकी जगह गोगामेड़ी ने इसकी जगह ‘धंधे’ की बात की. गोगामेड़ी ने बिना वक्त गंवाए मुंबई में अपने एजेंट से अंडरकवर रिपोर्टर का संपर्क कराया.

गोगामेड़ी ने कहा, ‘आप उम्मेद सिंह से बात कर सकते हैं. वो वहीं से मुझसे फोन पर बात करेगा. वो हमारे सांगठनिक संयोजक हैं. आप उससे ही बात कर सकते हैं या उससे कहें कि मुझसे बात करें. आप उसका नंबर नोट कर सकते हो.’

मुंबई में अंडर कवर रिपोर्टर ने एक लग्जरी होटल में उम्मेद सिंह से बात की, जिसे गोगामेड़ी का दायां हाथ माना जाता है. उम्मेद सिंह ने गारंटी दी कि वो औरंगजेब पर प्रस्तावित फिल्म की पब्लिसिटी के लिए उसके सेट पर हमलों का नाटक करा सकता है.

श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के सांगठनिक संयोजक उम्मेद सिंह ने कहा, ‘कुछ लोग बाहर से आएंगे और वो तमाशा खड़ा करेंगे. सेट को जलाया नहीं जाएगा. दो या चार लोगों को मारा जाएगा. गुंडागर्दी को रिकॉर्ड किया जाएगा.’

रिपोर्टर ने पूछा- और ये सब प्रचार के लिए वॉट्सएप पर पोस्ट किया जाएगा?

उम्मेद सिंह ने वादा किया- ये सब पूरे भारत और दुनिया भर में किया जाएगा. इसके बाद उम्मेद सिंह ने फिल्म को एक महीने तक हुड़दंगियों से सुरक्षित रखने की एवज में कीमत की मांग की.

उम्मेद सिंह ने कहा,  ‘अगर आप एक महीने के 50 लोग चाहते हैं कि सेट्स को सुरक्षित रखा जा सके तो उनको (फिल्म निर्माताओं) को डेढ़ करोड़ रुपए का भुगतान करना होगा.’

रिपोर्टर ने पूछा- डेढ़ करोड़ रुपए किनसे?

उम्मेद सिंह ने जवाब दिया- ‘आप से’.

उम्मेद सिंह ने फिर जोड़ा, ‘50 लोग आपके लिए वहां हर वक्त मौजूद रहेंगे.’

उम्मेद सिंह ने ये भंसाली की आने वाली फिल्म ‘पद्मावती’ पर आने वाले वक्त में होने वाले हमलों का भी संकेत दिया. उम्मेद सिंह ने चेतावनी के लहजे में कहा, ‘पद्मावती की रिलीज नहीं रोकी जाएगी लेकिन गुंडागिरी की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता.’ उम्मेद सिंह ने कहा, ‘ये मुंबई में सुरक्षित है लेकिन कोल्हापुर में इसे जलाया गया था. उम्मेद सिंह का इशारा मार्च में महाराष्ट्र में ‘पद्मावती’ के सेट पर आग से हुए हमले की ओर था.

TOPPOPULARRECENT