Saturday , February 24 2018

कासगंज में मुस्लिमों की दुकानें जलने से पैसे- पैसे को मोहताज हुए हिंदू मुलाजिम

कासगंज हिंसा में कई मुसलमानों की दुकानें जला दी गईं जिसके बाद उनके यहां काम करने वाले हिंदू कर्मचारी रोज़ी-रोटी के मोहताज हो गए हैं। इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक वीर बहादुर ने उनको  बताया की कई बार अपने मालिक सरदार अली खान को फोन किया क्योंकि उसे पैसों की जरूरत है। सरदार अली खान की इस हिंसा में दुकान जला दी गई। बता दें की कासगंज की हिंसा में मुस्लिम समुदाय के लोगों की कई दुकानें और कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया था । इनमें से कई दुकानें ऐसी थीं जिनमें हिंदू समुदाय के लोग काम करते थे।

वीर बहादुर के अनुसार मुस्लिम समुदाय की पांच दुकानों में करीब 20 हिंदू कर्मचारी थे जो कि दुकानें जलने के बाद बेरोजगार हो गए हैं और वे काफी निराश हैं। फोन पर इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए वीर बहादुर ने कहा “मैं पिछले सात सालों से बाबा शू कंपनी में काम कर रहा था। मुझे रोजाना 180 रुपए मिलते थे लेकिन अब मुझे नहीं पता मैं क्या करूं। मैं कोई दूसरी नौकरी ढूंढ रहा हूं।” बाबा शू कंपनी के मालिक सरदार अली खान ने इस मामले पर बात करते हुए कहा “बहादुर ने मुझे कई बार फोन कर पैसे मांगे हैं। मैं उसे 500 रुपए दे सकता हूं लेकिन उसे कहीं और नौकरी ढूंढनी होगी।”

सरदार अली खान ने कहा “इस हिंसा में आठ लाख रुपए का सामान खराब हो गया। मैं कैसे दोबारा यह दुकान बनाऊंगा?” उन्होंने बताया कि उनके यहां छह लोग काम करते थे जिनमें से चार हिंदू हैं। चंदन की मौत के बाद बढ़ी हिंसा को याद करते हुए सरदार अली खान ने कहा “भीड़ मेरी दुकान को जलाने की कोशिश कर रही थी और जब मैंने उन्हें रोका तो उन्होंने मुझे दुकान से बाहर निकाल दिया और मारपीट की। प्रशासन को इस पर काम करना चाहिए। बिजनेस को फिर से शुरु करने में कई पीढ़ी लग जाएंगी।”

 

साभार- जनसत्ता

 

TOPPOPULARRECENT