Thursday , September 20 2018

हमारी लड़ाई कश्मीरीयों के हक़ की लड़ाई, बातचीत के लिए अब और इंतजार नहीं- फारुक अब्दुल्ला

नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि हमारी लड़ाई कश्‍मीरियों के हक की लड़ाई है। इसके लिए केन्‍द्र सरकार को पाकिस्तान के साथ सकारात्मक पहल करनी चाहिए। इस मुद्दे पर बातचीत का इंतजार आखिरी बुलेट तक करना संभव नहीं है।

केन्‍द्र सरकार जिस शर्त पर पाकिस्‍तान से बाचतीत करना चाहती है कि उसके लिए पाकिस्‍तान तैयार नहीं होगा। वार्ता में विलंब से घाटी में हिंसा बढ़ी है। इसलिए जरूरी है कि समय गवाए बगैर पाक से वार्ता शुरू हो। इसके बिना इस समस्‍या का कोई हल नहीं निकल सकता है।

मीडिया से बातचीत में उन्‍होंने अनुच्छेद 370 पर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की तारीफ करते हुए कहा कि नेशनल काफ्रेंस इस अनुच्छेद पर अपना संघर्ष जारी रखेगा । इस मुद्दे को लेकर देश भर में गलतफहमी को बढ़ावा दिया जा रहा है।

कश्मीर के युवा अपने भविष्य को अंधेरे में देख रहे हैं। केंद्र जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 की स्वायत्तता को बरकरार रखना चाहिए। ऐसा इसलिए जरूरी है कि लोग इसके साथ छेड़छाड़ बर्दाश्‍त नहीं करेंगे। सच यह है कि यह राज्य के लोगों के सम्मान की स्वायत्तता है। उन्होंने कहा कि हिंसा से कोई हल नहीं हो सकता है।

पाकिस्तान के क्रिकेटर शाहिद आफरीदी के ट्वीट पर भारत अधिकृत कश्मीर में संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ के हस्तक्षेप पर कहा कि हत्याओं को रोका जाना चाहिए। कोई भी राष्ट्र इसकी इजाजत नहीं देता है।

उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार में पीडीपी की सहयोगी भाजपा पाकिस्तान से वार्ता के लिए समर्थन नहीं कर रही है। यही कारण है कि पीएम मोदी पाक के समक्ष कठिन शर्तों को लेकर अड़े हैं। उन्‍हें इस मामले में नरम रुख का परिचय देना चाहिए।

उन्‍होंने कहा कि पीडीपी ने भी सत्ता के लिए समझौता कर लिया है। पिछले चार साल में वार्ता के लिए क्या किया गया है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में आये दिन हालात बिगड़ते जा रहे हैं और अगर ऐसा ही हाल रहा तो कश्मीर का कोई भी ऐसा हिस्सा नहीं होगा जहां के लोग शहादत देने के लिए तैयार नहीं होंगे। फारूक ने कहा कि मीडिया को हमारे खिलाफ चलाये जाने वाला प्रोपेगंडा बंद करना होगा।

TOPPOPULARRECENT