Saturday , April 21 2018

कश्मीरी फोटोजर्नलिस्ट कामरान युसूफ को हो सकती है आजीवन कारावास की सजा

कश्मीर। कश्मीरी फोटोजर्नलिस्ट कामरान युसूफ के परिवार का कहना है कि पिछले साल 4 सितंबर की सुबह कामरान कश्मीर के पुलवामा में अपने घर से बैकपैक्स और कैमरों को लेकर निकला था लेकिन वह फिर वापस नहीं आया। अगले दिन उनके परिवार को समाचार चैनलों के माध्यम से पता चला कि यूसुफ को भारतीय सुरक्षा बलों ने गिरफ्तार कर नई दिल्ली को भेज दिया है।

22 वर्षीय फ्रीलांस फोटो जर्नलिस्ट तब से जेल में है। यूसुफ के चाचा इरशाद अहमद गनी कहते हैं कि परिवार अभी भी सदमे में है। उनका कहना है कि जब वह दो साल का था, तब उनकी मां का तलाक हो गया था तब से वह हमारे साथ रहता था। वह शहर में एक फोटोग्राफर के रूप में कड़ी मेहनत करता था और कई संगठनों के साथ फ्रीलान्स काम करता था और सभी प्रकार की तस्वीरों को लेता था। गनी का कहना है कि उनके भतीजे को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा फंसाया जा रहा है।

नई दिल्ली की विशेष एनआईए अदालत में पेश हुई चार्जशीट में एजेंसी ने कहा है कि यूसुफ वास्तव में पत्रकार नहीं है। पत्रकारों की रक्षा करने वाली समिति (सीपीजे) ने अधिकारियों से कहा है कि वे आरोप लेकर यूसुफ को छोड़ दें। सीपीजे एशिया कार्यक्रम समन्वयक स्टीवन बटलर ने एक बयान में कहा कि भारत की राष्ट्रीय जांच एजेंसी अपने कार्यक्षेत्र से बाहर जा रही है। अधिकारियों के समूह, स्थानीय पत्रकारों और मीडिया वॉचडॉग ने युवा पत्रकार के खिलाफ मनगढंत आरोपों पर चिंता जताई है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने गुरुवार को जारी अपनी वार्षिक मानव अधिकार रिपोर्ट में कहा था कि यदि दोषी ठहराया जाता है, तो यूसुफ को आजीवन कारावास का सामना करना पड़ सकता है। एम्नेस्टी इंटरनेशनल का मानना ​​है कि उनके खिलाफ गड़बड़ी और राजनीतिक रूप से प्रेरित आरोप और कश्मीर में पत्रकारिता को रोकने का प्रयास करने का एक हिस्सा है। पिछले नवंबर में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक संघर्ष में कम से कम 21 पत्रकारों की मौत हो गई।

फ्रीलान्स फोटोग्राफर मुनिबी-उल-इस्लाम ने अल जजीरा को बताया कि वह खुद कई बार सुरक्षा बलों द्वारा पीटे गए और उनके कैमरे टूट गए थे। कामरान यूसुफ की गिरफ्तारी स्पष्ट रूप से प्रेस की स्वतंत्रता और पत्रकारों के अधिकारों का उल्लंघन है।

TOPPOPULARRECENT