Saturday , April 21 2018

कठुआ गैंगरेप केस ने पुरी दुनिया को हिलाया, UAE में इंसाफ़ के लिए उठी आवाज़

इन दिनों भारत में हुए आसिफा गैंग रेप की चर्चा पुरे मीडिया जगत में जोरों से चल रही है, इन गैंग रेप ने पूरे भारत को हिला दिया, जगह-जगह आसिफा बानो के लिए इंसाफ की मांग की जा रही है, जगह-जगह गैंग रेप करने वालों को सजा दिलवाने की मांग की जा रही है।

जम्मू में 8 साल की बच्ची से रेप के बाद मर्डर केस में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। यह मामला जनवरी का है। बच्ची को कठुआ जिले के एक मंदिर के कमरे में नशे की दवाईयों से बंदी बनाया गया फिर पूरी घटना को अंजाम दिया गया। इस मामले के बाद से आरोपियों को पकड़ने की मांग को लेकर काफी प्रदर्शन हो रहे हैं।

आसिफा को इन्साफ के लिए आज पुरे भारत प्रदर्शन किये जा रहें है। हर कोई आसिफा को इन्साफ दिलाने के लिए भारत सरकार से लड़ रहा है। यह मामला सिर्फ भारत के मीडिया में ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय मीडिया पर भी छाया हुआ है।

हर कोई भारत सरकार की आलोचना कर रहा है कि अब धर्म के नाम पर रेप भी किये जा रहें है। साथ आसिफा को इन्साफ दिलाने के लिए आसिफा मामले क्वे आरोपियों को सज़ा-ए-मौत की मांग कर रहें है।

आसिफा के लिए इंसाफ की मांग करने अब अमीरात में भारतीय प्रवासी भी सामने आये हैं, सभी प्रवासी आसिफा के लिए इंसाफ मांग रहे हैं, यह मुद्दा अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भी ट्रेंडिंग में है।

खलीज टाइम्स के अनुसार अमीरात के दुबई और शारजाह में रहने वाले भारतीय समुदाय ने शनिवार को एकत्रित होकर आसिफा बानू के लिए एक केंडल मार्च किया, आसिफा बानू, जो की एक मासूम आठ वर्षीय लड़की थी, जिसका अपहरण का रेप कर दिया गया।

शारजाह इंडियन एसोसिएशन के मैदान पर 8 बजे शारजाह में भारत के 150 से अधिक सदस्यों ने ‘असीफा न्याय’ आंदोलन के हिस्से के रूप में शनिवार को मोमबत्ती की रोशनी से आसिफा के लिए इंसाफ मांगने की मांग की।

खलीज टाइम्स के अनुसार भारतीय समुदाय ने इंडियन एसोसिएशन शारजाह एंड सीनियर मेम्बर ऑफ़ ओवरसीज इंडियन कल्चर सोसाइटी को भी शामिल किया, जिन्हें आईएनसीएएस के नाम से भी जाना जाता है।

दुबई में केरल मुस्लिम सांस्कृतिक केंद्र (केएमसीसी) के सदस्यों ने भी इस घिनौनी हरकत को करने वाले अपराधियों के खिलाफ तेजी से कार्रवाई की मांग के लिए बयान जारी किया।

केएमसीसी के अध्यक्ष अनवर नाहा ने कहा की “इस मामले में पीड़ित, एक आठ वर्षीय बच्ची है, धर्म, राजनीतिक सम्बद्धता, जाति से इस मामले को नहीं जोड़ना चाहिए।

इस बीच, शारजाह इंडियन एसोसिएशन (आईएएस) अध्यक्ष ने कहा, “इस रेप केस ने पूरे देश को सदमे में डाल दिया हिया, भारत ने अपनी आजादी के बाद से 70 वर्षों में खुद का नाम बनाया था…. यह पहली बार है कि हम अपने सिर को लज्जित करते हैं क्योंकि हम अपने देश की लड़कियों को बचाने में नाकाम हैं. न्याय को तेज होने की आवश्यकता है। हमें लड़कियों की रक्षा करनी चाहिए।

आईएएस के महासचिव बीजू सोमन ने कहा, “शारजाह में इस घटना के लिए लोगों की व्यापक भागीदारी इस तथ्य का साक्षी है कि भारतीय प्रवासी भी बहुत गुस्से में हैं।

इनकैस संयुक्त अरब अमीरात के केंद्रीय समिति के अध्यक्ष महादेवन वाजासेरी ने कहा, “अपराधियों को दंडित किया जाना चाहिए, और मामले को बिना किसी अपील के अदालत में पेश किया जाना चाहिए।

भारत में चल रहे मुद्दे पर कई भारतीय छात्रों ने भी अपनी चिंता व्यक्त की है. अल घूरैर विश्वविद्यालय के एक छात्र सफा नासर (23) ने कहा, “लड़कियों का नियमित रूप से देश में बलात्कार किया जाता है। कानून को बलात्कारियों को सख्ती से सज़ा देना चाहिए। नियमों को बदलने की जरूरत है।

TOPPOPULARRECENT