Saturday , November 25 2017
Home / Khaas Khabar / रिपोर्ट: रोज़ा रखना हर तरह से फायदेमंद है, कई बीमारियों से मिलती है निजात

रिपोर्ट: रोज़ा रखना हर तरह से फायदेमंद है, कई बीमारियों से मिलती है निजात

हैदराबाद: रोज़ा रखने से शरीर पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता, बल्कि इससे शरीर को बायोलॉजिकल और मानसिक सुख मिलता है।

मेडिकल साइंस का मानना है कि चूंकि रोजा रखने के दौरान एक खास समय के दौरान रूक-रूकर उपवास रखना होता है, इसलिए यह इंसानी शरीर के लिए काफी लाभदायक है। एक तरह से कहा जाए तो यह दूसरे उपवासों से एकदम अलग है।

वरिष्ठ डॉक्टर डा. फखरुद्दीन मोहम्मद अनुसार, रोजा रखने के दौरान इंसान लगभग 14 घंटों तक संयम बरतता है जबकि दूसरे तरह के उपवासों में ज्यादा से ज्यादा 10 घंटे तक भोजन और पानी नहीं लिया जाता है।

रोजा लगातार एक महीने तक दोहराया जाता है तो दूसरी तरफ अन्य प्रकार के उपवासों के दौरान पानी वगैरह पीने की इज्जात होती है। और कई उपवासों में तो फल का सेवन भी जाता है। दूसरी ओर, रमजान के उपवास में 24 घंटों के दौरान कई तरह के शारीरिक बदलाव भी होते हैं।

डॉ. फखरुद्दीन का कहना है, “रमजान एक नियमित चलने वाला क्रिया है जिसमें एक विशेष प्रकार से प्रार्थना नियमित रूप से किया जाता है। यह क्रिया व्यायाम की तरह पूरे रमजान तक चलता रहता है। उनके मुताबिक, ऐसा करने से इंसानी शरीर और मस्तिष्क दोनों स्वस्थ रहता है। यह तनाव कम करता है। मोटापा, थायराइड और शरीर के मेटाबोलिज्म को संतुलित करता है।

मुस्लिम एजुकेशनल सोशल एंड कल्चरल आर्गेनाईजेशन (मेस्को) के चेयरमैन डॉ. फखरुद्दीन बताते हैं कि रोजा रखने से शरीर का हार्मोन्स संतुलित रहता है। शरीर को मिलने वाले ग्लूकोज, न्यूरॉन्स और इंसुलिन को फायदा पहुंचाता है।

इंपीरियल जर्नल ऑफ इंटरडिसीप्लिनरी के मार्च 2017 के अंक में प्रकाशित एक दूसरे अध्ययन से भी डॉ. फखरुद्दीन के दावों को बल मिलता है। इस पत्रिका के अध्ययन में सुझाव दिया गया है कि कैसे उपवास के दौरान शारीरिक क्रियाओं को संतुलित रखा जाए।

इसमें यह भी बताया गया है कौन से पौष्टिक आहार लेना और कितना पानी पीना लाभदायक है। इसके इलावा अध्ययन में बताया गया है कि रोजा रखना स्वस्थ के लिए फायदेमंद है। वहीं दूसरी तरफ पुरानी बीमारियों से ग्रस्त लोगों को रोजा रखने से पहले डॉक्टरों से परामर्श करना जरूरी है।

TOPPOPULARRECENT