Tuesday , December 12 2017

नास्तिक पिता ने कहा: हादिया के रुप में नहीं, अखिला के रूप में वापस लाने की लड़ाई जारी रखेंगे!

तिरुवनंतपुरम: हदिया के पिता के. एम. अशोकन अविरत रूप से अपनी बेटी को अखिला के रूप में बदलने की कोशिश कर रहे हैं। वह कहते हैं कि वह एक नास्तिक है, हालांकि उनकी पत्नी, हदिया की मां, एक हिंदू है।

के. एम. अशोकन ने यह भी कहा कि “वह मेरी इकलौती बेटी है, मैं अंत तक लड़ूंगा। मैं यह स्वीकार नहीं कर सकता कि मेरी बेटी एक आतंकवादी के साथ गई है।

हदिया अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर होम्योपैथी में इंटर्नशिप करने के लिए अपनी पढाई जारी रख रही है। हदिया की मां पोंनमंमा और पिता के. एम. अशोकन अपनी बेटी को वापस लाने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं।

मई में, केरल उच्च न्यायालय ने एक मुस्लिम शख्स, शफीन जहान के साथ हदिया की शादी को रद्द कर दिया था। तब से हदिया अपने माता-पिता के साथ पुलिस संरक्षण के साथ रह रही थी।

पुन्नममा ने कहा कि “पिछले दो सालों से, मैं भगवान से प्रार्थना कर रही हूं कि भगवान हमें हमारी बेटी को वापस दे। उसने मुझे इस्लाम को गले लगाने के लिए भी राजी करने का प्रयास किया था। वह मुझे बताती थी, ‘माँ, आप नरक में जाएंगे क्योंकि आप कई देवताओं में विश्वास करते हैं’। उसे विश्वास था कि मुसलमान बनना अमीर बनने का एक तरीका है।”

लेकिन हदीया का कहना है कि उसने अपनी इच्छा से इस्लाम को गले लगा लिया है और वह अपने पति के साथ रहने के लिए तैयार हैं।

TOPPOPULARRECENT