पोपुलर फ्रंट पर बैन नहीं, पहले RSS को गैरकानूनी घोषित किया जाए- केरल के मुख्यमंत्री

पोपुलर फ्रंट पर बैन नहीं, पहले RSS को गैरकानूनी घोषित किया जाए- केरल के मुख्यमंत्री

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने मुस्लिम संगठन पोपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (पीएफआई) पर प्रतिबंध लगाने की उस खबर को खारिज कर दिया जिसमे कहा गया है कि केरल सरकार ने केंद्र से इस मुस्लिम संगठन पर प्रतिबन्ध लगाने की मांग की है।

हाल ही उन्होंने कहा कि किसी भी सांप्रदायिक संगठन पर प्रतिबंध लगाने का कर्तव्य केरल सरकार का नहीं है। उनका यह बयान गुरुवार को अंग्रेजी दैनिक ‘द हिंदू’ की एक रिपोर्ट में आया है जिसमे कहा गया है कि गृह मंत्री किरन रिजिजू ने केरल सरकार ने पीएफआई पर प्रतिबंध लगाने के लिए दबाव डाला है और हम इस मामले की जांच कर रहे हैं।

रिजिजू ने कथित तौर पर कहा था कि केरल पुलिस महानिदेशक लोकनाथ बेहरा ने जनवरी में मध्य प्रदेश में आयोजित वार्षिक डीजीपी सम्मेलन में इस मामले पर चर्चा की थी।

विजयन ने कहा कि यदि कोई संगठन जो भारत में दंगे का माहौल बनाता है और सांप्रदायिक आधार पर समाज को विभाजित करता है तो उसे प्रतिबंधित किया जाना चाहिए, तो सबसे पहले आरएसएस [राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ] पर यह प्रतिबंध लगाना चाहिए।

उन्होंने कहा, पीएफआई जैसी संस्थाओं का मुकाबला प्रतिबंध से नहीं किया जा सकता है। इस तरह के संगठनों का विरोध करने का एकमात्र तरीका उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करना है।

पुलिस महानिदेशक बीहर ने भी एक बयान जारी कर पीएफआई पर प्रस्तावित प्रतिबंध को रिपोर्टों को नकार दिया है। केरल पुलिस ने अभी तक पीएफआई पर इस तरह के प्रतिबंध को लागू करने के लिए प्रस्ताव नहीं दिया है और न ही लिखा है।

Top Stories