केसरीनाथ त्रिपाठी ने राजभवन को बीजेपी और RSS का दफ्तर बना दिया था- तृणमूल

केसरीनाथ त्रिपाठी ने राजभवन को बीजेपी और RSS का दफ्तर बना दिया था- तृणमूल

निर्वतमान राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने जाते-जाते शनिवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर बड़ा हमला बोला। उन्होंने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी की तुष्टीकरण नीति से राज्य में साम्प्रदायिक सौहार्द बिगड़ रहा है। साथ ही उन्होंने तृणमूल कांग्रेस सरकार को राज्य के सभी नागरिकों को एक नजर से देखने की नसीहत भी दी है।

उनके इस बयान से राजनीतिक विवाद शुरू हो गया है। तृणमूल कांग्रेस के महासचिव और राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने उनके बयान की निंदा करते हुए कहा कि त्रिपाठी ने राजभवन को भाजपा और आरएसएस का कार्यालय बना दिया था।

डेली न्यूज़ पर छपी खबर के अनुसार, त्रिपाठी ने दावा किया कि ममता बनर्जी की तुष्टीकरण नीति के कारण ही पश्चिम बंगाल का हाल बेहाल हुआ है। उनकी तुष्टीकरण की राजनीति और तुष्टीकरण की योजनाओं से बंगाल में साम्प्रदायिक सौहार्द बिगड़ा है। इसी कारण राज्य की कानून-व्यवस्था भी खराब हुई है।

उन्होंने कहा कि समाज में सरकार की तुष्टीकरण करने वाली योजनाओं को लेकर जबर्दश्त प्रतिक्रिया हुई है। इस कारण राज्य में साम्प्रदायिक सौहार्द खराब हुआ है। उन्होंने बंगाल की स्थिति सुधारने के लिए ममता बनर्जी को नसीहत भी दी।

त्रिपाठी ने कहा कि राज्य सरकार को बंगाल के नागरिकों के साथ भेद-भाव नहीं करना चाहिए। सभी नागरिकों को एक नजर से देखना चाहिए। राज्य की कानून-व्यवस्था में और सुधार करना चाहिए।