Thursday , April 26 2018

जानिए, सलमान खुर्शीद ने क्यों कहा तीन तलाक़ पर अदालती फैसला पर्सनल लॉ के लिए खतरा नहीं है?

नई दिल्ली: अगर आपको लगता है कि “तीन तलाक” को लेकर दिसंबर-जनवरी में सुप्रीम कोर्ट और संसद में जो चर्चा हुई वह ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के खिलाफ थी, तो आप गलत हैं। सुप्रीम कोर्ट के वकील और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने अपनी नई किताब में इस पूरे मामले में अलग नजरिया पेश किया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

अपनी किताब में खुर्शीद ने यह बताने की कोशिश की है कि तीन तलाक पर कोर्ट का फैसला इस्लामिक कानून के लिए खतरा नहीं है।तीन तलाक: एग्ज़मिनिंग फैथ, शीर्षक से अपनी नई किताब में खुर्शीद ने तीन तलाक को लेकर उन सभी बातों का डिटेल में ज़िक्र किया है। जिसके बार में हम और आप जानना चाहते हैं।

तीन तलाक क्या है? कैसे होता है? किस तरह से यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा? कैसे सुप्रीम कोर्ट में इस पर फैसला हुआ और तीन तलाक को लेकर किस तरह की गलतफहमियां हैं? खुर्शीद ने इन सभी सवालों का जवाब अपनी किताब में दिया है। अदालत ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद को तीन तलाक से संबंधित मामले में एमिकस क्योरी (जज) बनाया था। अपनी किताब में खुर्शीद ने तीन तलाक पर सुनवाई के बीच सुप्रीम कोर्ट और उनके कमेंट्स और अपने तर्क भी शामिल किए हैं।

TOPPOPULARRECENT