कोविड-19: वैक्सीन बनने से पहले विशेषज्ञों का आया बड़ा बयान!

कोविड-19: वैक्सीन बनने से पहले विशेषज्ञों का आया बड़ा बयान!

कोरोना वायरस संक्रमण को शुरू हुए 6 महीने हो चुके हैं। एक तरफ इस ख़तरनाक वायरस के स्त्रोत और पहले मामले को लेकर कई तरह की बातें सामने आ रही हैं, तो दूसरी ओर, वैज्ञानिक कोविड-19 का प्रसार रोकने के लिए इसकी वैक्सीन तैयार करने में जुटे हैं।

 

जागरण डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, चाहे फंड हो या फिर शीघ्र मंजूरी, सरकारें भी इस वायरस को जल्द से जल्द ख़त्म करने की हर संभव कोशिश कर रही है।

 

वैक्सीन और कोरोना वायरस के इलाज पर लगातार काम हो रहा है, लेकिन बावजूद इसके ये कहना बेहद मुश्किल है कि वैक्सीन कब तक तैयार होगी।

 

ऐसे भी दावें हैं, जिसमें कहा जा रहा है कि ऑक्सवर्ड-एस्ट्राज़ेनेका प्रोटोटाइप जैसी वैक्सीन भी कुछ हद तक ही सुरक्षा कर सकती है। साथ ही इसके साइड-इफेक्ट्स भी हो सकते हैं या ऐसा भी हो सकता है कि वैक्सीन हर किसी पर काम न करे।

 

एक तरफ पूरी दुनिया को उम्मीद है कि इसकी वैक्सीन जल्द तैयार हो जाएगी, लेकिन ऑक्सफर्ड के एक शोधकर्ता का मानना है कि कोविड-19 महामारी, जिसने अभी तक 5 लाख से ज़्यादा लोगों की जान ले ली है, खुद-ब-खुद बिना वैक्सीन के ख़त्म हो जाएगा।

 

जागरण डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, ऑक्सवर्ड यूनीवर्सिटी की शोधकर्ता, प्रोफेसर सुनेत्रा गुप्ता, का मानना है कि वैक्सीन कितनी कारगर साबित होगी, इस पर कई तरह की रिसर्च हो रही है, लेकिन ये भी हो सकता है कि कोविड-19 फ्लू की तरह का एक इंफेक्शन हो और इसके लिए भी किसी खास वैक्सीन की ज़रूरत न हो।

 

खास प्रेस कॉन्फ्रेंस में बात करके हुए प्रोफेसर ने कहा कि कोविड-19 उन्ही लोगों के लिए ख़तरनाक साबित हो रहा है, जो पहले से किसी बीमारी से ग्रस्त हैं। जबकि जो जवां और स्वस्थ हैं, वे लोग जल्द ही इससे उबर जाते हैं।

 

उन्होंने कहा, “हम आप तौर पर देख रहे हैं, कि जो लोग स्वस्थ हैं, या जो बूढ़े और कमज़ोर नहीं हैं, उन्हें इस वायरस को लेकर परेशान होने की ज़रूरत नहीं है।”

Top Stories