Saturday , November 18 2017
Home / Delhi / Mumbai / बलूचिस्तान में पकड़े गए भारतीय जासूस कुलभूषण जाधव को फांसी की सज़ा

बलूचिस्तान में पकड़े गए भारतीय जासूस कुलभूषण जाधव को फांसी की सज़ा

पाकिस्तान की जेल में बंद इंडियन नेवी के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को मौत की सज़ा सुनाई गई है। जाधव पर रॉ का एजेंट होने का आरोप है। उन्हें 3 मार्च 2016 को बलूचिस्तान के चमान इलाके से गिरफ्तार किया गया था।

बता दें कि पाकिस्तान सेना ने मार्च के आखिर में जाधव के कथित कुबूलनामे का वीडियो भी जारी किया था। इसमें उन्होंने माना था कि वह बलूचिस्तान में आतंकी गतिविधियों में शामिल थे।

हालाँकि इस वीडियो ‘कबूलनामे’ को भारत सिरे से खारिज कर दिया था। भारत ने कहा था कि वह एक व्यापारी थे, जिन्होंने नौसेना से रिटायरमेंट लेने के बाद अपना बिजनेस करना शुरू किया गया था।

वीडियो पर भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर जारी बयान में कहा गया था कि गिरफ्तार व्यक्ति के बयान से साफ संकेत मिलता है कि यह सिखा पढ़ाकर तैयार कराया गया वीडियो है और हमें उसकी सलामती की चिंता है।

क्या था वीडियो में!

वीडियो में जाधव ने कहा कि वह मुंबई में रहते हैं, और ‘अब भी भारतीय नौसेना का अधिकारी हैं, जिसकी सेवानिवृत्ति 2022 में होनी है…’ जाधव कहा कि उन्होंने वर्ष 2001 में भारतीय संसद पर हमले के बाद खुफिया विभाग में काम करने से करियर शुरू किया था, और बाद में उन्होंने ईरान में छोटे स्तर पर व्यापार शुरू किया, जिसकी वजह से उसे पाकिस्तान आने-जाने में सहूलियत होने लगी, और वर्ष 2013 में उन्हें रॉ एजेंट बना लिया गया।

वहीँ भारत सरकार ने इसे पठानकोट हमले में अपनी जिम्मेदारी से बचने की पाकिस्तान की कोशिश करार दिया था। भारत ने साथ ही यह आशंका भी जताई कि हो सकता है कि उनका अपहरण किया गया हो।

TOPPOPULARRECENT