कुशवाहा का बीजेपी और नीतीश कुमार पर हमला, बोले- ‘मंदिर मस्जिद की राजनीति बिल्कुल बर्दाश्त नहीं’

कुशवाहा का बीजेपी और नीतीश कुमार पर हमला, बोले- ‘मंदिर मस्जिद की राजनीति बिल्कुल बर्दाश्त नहीं’

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) अध्यक्ष और केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने गुरुवार को चिंतन शिविर में नीतीश सरकार और भाजपा पर जमकर हमला बोला। कुशवाहा ने कहा कि बिहार भाजपा के नेताओं ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने घुटने टेक दिए हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कभी नीतीश कुमार ने भाजपा को भारतीय जुमलाबाज पार्टी कहा था। देश के दूसरे भाजपा नेता कैसे हैं, इसपर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता लेकिन बिहार में भाजपा के सभी नेता असली जुमलेबाज हैं।

जिस वक्त बिहार के भाजपा नेता नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट करने के विषय पर संशय में थे उस वक्त मैंने कहा था कि मोदीजी को देश का पीएम बनना चाहिए। भाजपा का विरोध कर 2015 में सरकार बनाने वाले नीतीश वापस भाजपा के साथ चले गए।

रालोसपा अध्यक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार ने भाजपा नेताओं के साथ मिलकर एक संगठन बना ली है। नीतीश के संगठन में जो नेता हैं वे उन्हीं की भाषा बोलते हैं। भाजपा पर हमला करते हुए कुशवाहा ने कहा कि मैंने पिछले 4 साल जिन लोगों के साथ काम किया, उसमें मुझे बदलाव का कोई असर नहीं दिखा। जो हालत पहले थी वहीं आज भी है।

कुशवाहा ने पहली बार भाजपा पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि जब चुनाव नजदीक आ गया तब भाजपा के लोग राम मंदिर की बात कह रहे हैं। मंदिर-मस्जिद बनाना किसी राजनीतिक पार्टी का काम नहीं है। राम मंदिर को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिए।

चुनाव के वक्त मंदिर की बात करने का मतलब साफ है कि जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश की जा रही है। भाजपा के लोग मंदिर का मुद्दा इसलिए उछाल रहे हैं ताकि इस मामले पर लोग गोलबंद हो जाए और इसी मुद्दे पर उन्हें वोट मिल जाए।

नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कुशवाहा ने कहा कि बिहार सरकार हर मोर्चे पर फेल है। इसे उखाड़ फेंकने में ही भलाई है। नीतीश सरकार के रहते बिहार का भला नहीं हो सकता।

कुशवाहा ने कहा कि मैंने शिक्षा सुधार को लेकर नीतीश सरकार को कई सुझाव दिए लेकिन उसपर कोई अमल नहीं किया गया। नीतीश कुमार ने बिहार की शिक्षा व्यवस्था चौपट कर दी है। नीतीश की वजह से ही बिहार के लोगों को हायर एजुकेशन के लिए बाहर जाना पड़ रहा है।

सूत्रों के मुताबिक उपेंद्र कुशवाहा 10 दिसंबर को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात कर सकते हैं। मुलाकात के बाद कुशवाहा केंद्रीय कैबिनेट से इस्तीफा दे सकते हैं।

फिलहाल वे केंद्रीय कैबिनेट में मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री हैं। राहुल गांधी से मुलाकात को लेकर सवाल पर कुशवाहा ने कहा कि मैं किसी को बताकर मुलाकात नहीं करूंगा। जब मिलना होगा तब मिल लेंगे।

Top Stories