सुन्नी वक्फ़ बोर्ड ने बाबरी मस्जिद के आकार का मस्जिद बनाने का फैसला किया!

,

   

सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गठित ट्रस्ट ने अयोध्या में बाबरी मस्जिद के आकार का मस्जिद बनाने का फैसला लिया है। 

प्रभात खबर पर छपी खबर के अनुसार, अयोध्या के धन्नीपुर में बनने वाले इस मस्जिद परिसर में अस्पताल, पुस्तकालय और संग्रहालय आदि भी होंगे. ट्रस्ट के पदाधिकारी ने इस बात की जानकारी दी है।

मस्जिद को 15,000 वर्ग फुट पर बनाने का फैसला लिया गया है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा राम जन्मभूमि मामले में दिए गए फैसले के तहत सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में 5 एकड़ जमीन मस्जिद के लिए उपलब्ध कराने का फैसला दिया था।

जिसके तहत राज्य सरकार ने अयोध्या के धन्नीपुर में यह जमीन उपलब्ध कराई है।

उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने पांच एकड़ के भूखंड पर मस्जिद के निर्माण के लिए एक ट्रस्ट, इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन (IICF) का गठन किया है।

इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सचिव और प्रवक्ता अतहर हुसैन ने पीटीआई को बताया कि अयोध्या में मस्जिद का निर्माण बाबरी मस्जिद के आकार जैसा ही होगा।

कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि सेवानिवृत्त प्रोफेसर और विख्यात आलोचक पुष्पेश पंत संग्रहालय के सलाहकार क्यूरेटर होंगे। उन्होंने इसकी सहमति दे दी है।

उन्होंने बताया कि जामिया मिल्लिया इस्लामिया के प्रो एस एम अख्तर इस परियोजना के सलाहकार वास्तुविद (आर्किटेक्ट) होंगे।

अतहर हुसैन ने कहा कि मस्जिद 15,000 वर्ग फुट पर होगी, जबकि बाकी जमीन में पुस्तकालय, अस्पताल व अन्य सुविधाएं होंगी।

बता दें कि राम जन्मभूमि मामले में फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में जिस मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ जमीन उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को देने का आदेश किया था।

राज्य सरकार ने जिला मुख्यालय से 18 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम धन्नीपुर की तहसील सोहावल में थाना रौनाही के पास पांच एकड़ जमीन मस्जिद के लिए आवंटित की है।