लखनऊ क्लॉक टॉवर महिला सशक्तिकरण स्थल में बदल गया !

लखनऊ क्लॉक टॉवर महिला सशक्तिकरण स्थल में बदल गया !

नागरिकता कानून और एनआरसी के विरोध में लखनऊ के घंटाघर में सैकड़ों महिलाओं का प्रदर्शन जारी है.  लगातार तीन दिनों से महिलाएं डेरा डंडा डाले हुई हैं। सरकार के खिलाफ नारेबाजी के बीच लोगों को जानबूझकर परेशान करने के आरोप लगाए जा रहे हैं। लखनऊ क्लॉक टॉवर महिला सशक्तिकरण स्थल के रूप में बदल गया

राज्य की राजधानी लखनऊ में हजारों महिलाओं ने सीएए (नागरिक संशोधन अधिनियम) और राष्ट्रीय रजिस्टर के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराया। हुसैनाबाद क्लॉक टॉवर के नीचे नागरिक (NRC)। भारत में सबसे लंबा, 67 मीटर लंबा, 1881 में निर्मित टॉवर ने न्याय के लिए एक एकजुटता वाली साइट की पहचान हासिल कर लिया और अपने लिए रातोंरात इतिहास में जगह बना ली।

बहरहाल, प्रदर्शन कर रही महिलाओं का कहना है कि सरकार जब तक सीएए और एनआरसी को वापस नहीं लेती है तब तक वह अपना धरना समाप्त नहीं करेंगी। महिलाओं के धरने को सामाजिक संगठनों और आम नागरिकों का भी समर्थन मिल रहा है।

शनिवार रात सिख समुदाय के कुछ लोगों ने धरना स्थल पर पहुंचकर महिलाओं को खाने पीने का सामान दिया। उन्होंने कहा कि सीएए के दायरे से जिस तरह से मुसलमानों को बाहर रखा गया वह देश की गंगा जमुनी तहजीब के खिलाफ है, लिहाजा वह इन महिलाओं का समर्थन करते हैं।

Top Stories