33 साल बाद MP में एकसाथ चुनकर आए दो मुस्लिम विधायक

33 साल बाद MP में एकसाथ चुनकर आए दो मुस्लिम विधायक

33 वर्षों के बाद, मध्य प्रदेश विधानसभा में दो मुस्लिम विधायक आरिफ अकील और आरिफ मसूद नजर आएंगे। 230 विधानसभा सीटों वाले इस राज्य में 1998 से अकील अकेले मुस्लिम विधायक थे जो कि भोपाल उत्तर से जीत रहे थे। लेकिन हाल ही में अकील, मसूद से जुड़ गए और कांग्रेस में शामिल हो गए। इसेक बाद दोनों ही भोपाल जिले की अलग-अलग विधानसभा सीट से चुनाव लड़े और जीत हासिल की।

2018 के विधानसभा चुनावों में, अकील ने बीजेपी के फातिमा रसूल को 35,000 मतों के अंतर से पराजित किया, जबकि मसूद ने भाजपा के सुरेंद्रनाथ सिंह को 15,000 मतों के अंतर से हराकर भोपाल मध्य निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल की है। बीजेपी और कांग्रेस की ओर से मैदान में कुल चार मुस्लिम उम्मीदवार थे। दो महिलाएं और दो पुरुष कांग्रेस ने सिरोंज सीट से महिला मसारत शाहिद सहित तीन मुस्लिम नेताओं को टिकट दिया था। जबकि बीजेपी ने केवल एक ही टिकट दिया। राज्य में मुस्लिम आबादी की बात करते तो कुल जनसंख्या का 8-9% अनुमानित है।

आरिफ ने हासिल किए 90403 वोट भोपाल उत्तर की सीट की बात करें तो कांग्रेस उम्मीदवार आरिफ अकील को कुल 90403 वोट मिले जबकि बीजेपी उम्मीदवार फातिमा रसूल को 55546 वोट मिले। तीसरे नंबर पर स्वतंत्र उम्मीदवार रहा। जबकि भोपाल मध्य सीट से कांग्रेस उम्मीदवार आरिफ मसूद को कुल 76647 वोट मिले। इस सीट से बीजेपी के सुरेंद्र सिंह दूसरे नंबर पर रहे हैं। सुरेंद्र सिंह को 61890 वोट मिले।

कांग्रेस के खाते में 114 सीटें बता दें कि राज्य की 230 विधानसभा सीटों के लिए 11 दिसंबर को परिणाम घोषित किए गए। इस बार के चुनाव में बीजेपी ने 109 सीटों पर जीत हासिल की जबकि कांग्रेस ने 114 सीटों पर जीत हासिल की है। जबकि एक सीट समाजवादी पार्टी और 2 बीएसपी और 4 निर्दलीय उम्मीदवारों ने सुरक्षित किया है। बीजेपी का बहुमत नहीं मिला इसलिए शिवराज सिंह चौहान ने पद से इस्तीफा दे दिया है।

Top Stories