Friday , April 27 2018

मध्य प्रदेश: समय पर एम्बुलेंस नहीं मिलने पर बच्ची को बाइक पर ले जाने को मजबूर, हुई मौत

मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में ऐम्बुलेंस की सुविधा नहीं मिल पाने से चार साल की एक बच्ची की मौत हो गई है। बच्ची के पैरंट्स उसे ड्रिप लगी अवस्था में ही 30 किलोमीटर तक बाइक पर ले जाने को मजबूर हुए, जिस वजह से उसकी जान चली गई।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

खबर के मुताबिक, सैलाना के नंदलेटा गांव की रहने वाली लिटल जीजा न्यूमोनिया की बीमारी से ग्रस्त चल रही थी। बच्ची के पिता घनश्यान और मां जीनाबाई उसे सोमवार को दोपहर 3 बजे हेल्थ केयर सेंटर ले गए। शुरुआती इलाज के बावजूद उसकी स्थिति बिगड़ती रही और डॉक्टरों ने उसे रतलाम में बाल चिकित्सालय रेफर कर दिया।

इसके लिए घनश्याम ने हॉस्पिटल से एक एम्बुलेंस मुहैया कराने की अपील की, जो कि हॉस्पिटल में उपलब्ध नहीं थी। कार के लिए इंतजार कर समय खराब करने से बेहतर बच्ची के पिता ने अपने एक दोस्त को बाइक लेकर बुलाया। घनश्याम के दोस्त बाइक चला रहे थे, जबकि वह खुद अपनी बेटी को सीने से चिपकाए बीच में बैठे रहे।

पीछे बच्ची की मां ड्रिप की बॉटल लिए बैठी रहीं। तीनों लोग बच्ची को इसी तरह से लेकर गांव की सड़कों से होते हुए 30 किलोमीटर दूर तक गए। रतलाम हॉस्पिटल पहुंचने पर वे सभी बच्ची को लेकर अंदर गए, जहां उसे कुछ ही मिनटों के अंदर मृत घोषित कर दिया गया। बच्ची की मौत की बात सुनते ही उसके मां-बाप बेसुध होकर रोने लगे।

बता दें कि भारत के अलग-अगल राज्यों से हर रोज कोई न कोई ऐसी तस्वीर सामने आ ही जाती है, जिसे देखकर हमें शर्मसार होना पड़ता है। मध्य प्रदेश से जिस प्रकार की घटना सामने आया है ये बेहद ही शर्मनाक है।

TOPPOPULARRECENT