Sunday , September 23 2018

महाराष्ट्र सरकार ने भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोपी संभाजी का नाम पद्मश्री के लिए सिफारिश किया था

मुंबई। जनवरी में भीमा-कोरेगांव जातीय हिंसा के आरोपी संभाजी भिड़े को पद्मश्री देने के लिए महाराष्ट्र की भाजपा सरकार द्वारा सिफारिश की गई थी। हिंदुस्तान टाइम्स की ओर से सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी में यह पता चला है। महाराष्ट्र सरकार के 11 सदस्यीय उच्चस्तरीय समिति ने संभाजी भिड़े के नाम की सिफ़ारिश पद्मश्री पुरस्कार के लिए की थी। समिति ने अपने विवेक के आधार पर खुद से यह निर्णय लिया था।

हिंदुस्तान टाइम्स ने संबंधित दस्तावेज राज्य सरकार के प्रोटोकॉल विभाग से सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत प्राप्त किए गए थे। 84 वर्ष के संभाजी भिड़े एक विवादास्पद व्यक्ति हैं। इस साल एक जनवरी को पुणे ज़िले के भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा के संबंध में दर्ज एफआईआर में संभाजी और दक्षिणपंथी नेता मिलिंद एकबोटे का नाम शामिल है। इन दोनों पर हिंसा भड़काने का आरोप है। संभाजी शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान नाम की संगठन के संस्थापक हैं, जो पिछले तीन दशकों से शिवाजी महाराज के बारे में जागरूकता फैला रहा है। संभाजी आरएसएस के स्वयंसेवक भी रहे हैं.

10 मंत्रियों और राज्य सरकार के प्रोटोकॉल विभाग के एक सचिव की 11 सदस्यीय उच्चस्तरीय समिति पद्म पुरस्कारों के लिए हर साल मिलने वाले आवेदनों में से राज्य की तरफ़ से भेजे जाने वाले लोगों के नामों का चयन कर करती है। दलित नेता और बीआर आंबेडकर के पोते प्रकाश आंबेडकर ने महाराष्ट्र सरकार के क़दम को मानसिक दिवालियापन कहते हुए निंदा की है। उन्होंने कहा, ‘संभाजी भिड़े को न कांग्रेस सरकार ने गिरफ़्तार करने की हिम्मत दिखाई और न ही एफआईआर में नाम होने के बावजूद फड़णवीस सरकार गिरफ़्तार कर रही है।

TOPPOPULARRECENT