मक्का मस्जिद ब्लास्ट केसः कोर्ट से गायब हो गई स्वामी असीमानंद की डिस्कलोजर रिपोर्ट

मक्का मस्जिद ब्लास्ट केसः कोर्ट से गायब हो गई स्वामी असीमानंद की डिस्कलोजर रिपोर्ट

2007 में हुए बहुचर्चित मक्का मस्जिद ब्लास्ट में एक नया मोड़ आ गया है। मामले के आरोपी स्वामी असीमानंद की डिस्क्लोजर रिपोर्ट कोर्ट से गायब हो गई है। इस रिपोर्ट के आधार पर ही असीमानंद पर ट्रायल किया जाना था। अदालत में कड़ी सुरक्षा के बीच सील रिपोर्ट गायब होने से हड़कंप मच गया है।

2007 में हुए बहुचर्चित मक्का मस्जिद ब्लास्ट में एक नया मोड़ आ गया है। मामले के आरोपी स्वामी असीमानंद की डिस्क्लोजर रिपोर्ट कोर्ट से गायब हो गई है। इस रिपोर्ट के आधार पर ही असीमानंद पर ट्रायल किया जाना था। अदालत में कड़ी सुरक्षा के बीच सील रिपोर्ट गायब होने से हड़कंप मच गया है।

मामले का खुलासा तब हुआ जब मंगलवार को कोर्ट के सामने मंगवाए गए दस्तावेज सीबीआई + के मुख्य जांच अधिकारी एसपी टी राजेश बालाजी ने देखे। बालाजी ने इस मामले की पहली चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की थी, उसके बाद मामला एनआईए को ट्रांसफर कर दिया गया था।

160 गवाहों के बयान दर्ज
गौरतलब है कि 18 मई 2007 को जुमे की नमाज के दौरान हैदराबाद की मक्का मस्जिद में एक ब्लास्ट हुआ था। इस धमाके में 9 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 58 लोग घायल हुए थे। इस घटना के बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए हवाई फायरिंग की थी, जिसमें कई और लोग मारे गए थे। इस घटना में 160 चश्मदीद गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे। इन बयानों में पीड़ितों के साथ ही आरएसएस प्रचारकों + सहित कई लोगों को शामिल किया गया था।

मामले के आरोपी असीमानंद को अप्रैल 2017 में कोर्ट ने इस शर्त पर जमानत दी थी कि वह हैदराबाद और सिकंदराबाद नहीं छोड़ सकते।

सीबीआई अधिकारी भी आश्चर्य में
एनआईए की स्पेशल कोर्ट के चौथे अतिरिक्त महानगर सत्र न्यायाधीश के रविंद्र रेड्डी कोर्ट पहुंचे। उन्होंने केस के दस्तावेज मांगे। जब दस्तावेज खोजे गए तो काफी खोजने के बाद भी वे नहीं मिले। दस्तावेजों के चक्कर में कोर्ट की कार्यवाही लगभग डेढ़ घंटे रुकी रही। काफी ढूंढने के बाद कुछ दस्तावेज मिले, जिन्हें कोर्ट के सामने रखा गया।

Top Stories