Thursday , December 14 2017

दिल्ली के एक शख्स को अपनी सगी मां के साथ छेड़छाड़ के आरोप में 4 साल क़ैद की सज़ा

दिल्ली की अदालत ने एक 48 वर्षीय शख्स को अपनी सगी माँ से साथ छेड़छाड़ के आरोप में चार साल कैद की सजा सुनाई है। यह घटना सितंबर 2012 में दक्षिणपूर्व दिल्ली के बदरपुर इलाके में स्थित घर में हुई थी।

पुलिस को अपने शिकायत में विधवा महिला ने कहा कि उसके सबसे बड़े बेटे जिसने शराब पी रखा था, उसने उसका उत्पीड़न किया और मारा पिटा।

23 सितंबर, 2012 को  उसने उसे एक कमरे में बंद कर दिया, उसका कपड़ा खींचा और उसके साथ मार पीट किया। यहाँ तक कि उसके शरीर से खून बहना शुरू हो गया।

घटना के बाद बेटा फरार हो गया। मां को अस्पताल में कई दिनों तक भर्ती रहना पड़ा और सर्जरी से गुजरना पड़ा। अभियोजन पक्ष ने अदालत से कहा कि उसकी चोटें इतनी थी कि उसकी बिना किसी तत्काल चिकित्सा के बचने की उम्मीद नहीं थी।

अभियोजन पक्ष के अनुसार, वह व्यक्ति परिवार के महिला सदस्यों के साथ छेड़छाड़ करता था। वह अपने बहन के साथ भी दुर्व्यवहार करता और उनके कपड़े खींच लिया करता था।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश संजीव जैन ने कहा कि एक भारतीय महिला परंपरागत रूप से एक असत्य कहानी का निर्माण नहीं करेगी और ब्लैकमेल, नफरत, के बावजूद या बदला लेने के लिए यौन उत्पीड़न के आरोप नहीं लगाएगी।

इसलिए इस बात का एहसास होना चाहिए कि एक औरत हमेशा उसकी दुर्दशा का खुलासा करने में हिचकिचाएगी।

अदालत ने आगे कहा कि खास कर ऐसे मामलों में जहां पीड़िता को बदनामी का डर हो, तथ्यों को छुपाएगी, कि कहीं इस वजह से उसकी पूरी जिंदगी के लिए उस पर कलंक न लग जाए।

TOPPOPULARRECENT