PM मोदी ने ‘मन की बात’ में की भगत सिंह और गाँधी की बात

PM मोदी ने ‘मन की बात’ में की भगत सिंह और गाँधी की बात
Click for full image

पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ में रविवार को अमर शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को याद किया। पीएम ने उन्हें प्रेरणा स्रोत बताते हुए कहा कि भगत सिंह से अंग्रेज इतने डरे हुए थे कि 24 मार्च 1931 को फांसी दी जानी थी पर उसके एक दिन पहले ही उन्हें फांसी दे दी गई।

इस दौरान पीएम ने महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह का जिक्र किया और कहा कि सत्याग्रह आंदोलन से हमें संघर्ष और सृजन की प्रेरणा मिलती है। यह आंदोलन देश में एक बड़ा बदलाव था। अंग्रेज तक गांधी के इस तौर-तरीके को नहीं समझ पाए थे। एक तरफ जहां वह आंदोलन से जेल भर देते थे वहीं दूसरी तरफ रचनात्मक कार्यों की तरफ भी मुड़ जाते थे।

उन्होंने कहा कि आज देश चंपारण सत्याग्रह की शताब्दी वर्ष मना रहा है। हमें सर्वजन हिताय के मूल मंत्र को लेकर देश के लोगों की मदद करने का संकल्प लेना चाहिए।

इसके अलावा पीएम मोदी ने न्यू इंडिया, ट्रैफिक नियम, डिजिधन योजना, भोजन की बर्बादी, डिप्रेशन और अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर बात की। पिछली बार प्रधानमंत्री में ‘मन की बात’ में एक ही रॉकेट से 104 सैटेलाइटों को भेजने को इसरो का ऐतिहासिक बताया था।

वहीं देश के विकास में सभी देशवासियों के योगदान को रेखांकित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सवा-सौ करोड़ देशवासियों की ये बदलाव की चाह, बदलाव का प्रयास ही है, जो न्यू इंडिया की मज़बूत नींव डालेगा।

उन्होंने कहा कि सभी देशवासी अगर संकल्प करें और मिलकर कदम उठाते चलें, तो न्यू इंडिया का सपना हमारे सामने सच हो सकता है।

Top Stories