मारवाड़ी से मुस्लिम बने युवक ने अपने घर वालों के खिलाफ पुलिस में की शिकायत

मारवाड़ी से मुस्लिम बने युवक ने अपने घर वालों के खिलाफ पुलिस में की शिकायत
Click for full image

नई दिल्ली: राजस्थान के रहने वाले एक मारवाड़ी युवक द्वारा इस्लाम कबूल करने पर उनके घरवालों द्वारा दबाव बनाये जाने पर युवक ने अपने परिवार के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाया है। युवाक्का कहना है कि उनके घर वाले उन्हें बहला फुसलाकर अपने पत्रिक गाँव ले गये जहां उनके साथ बहुत बुरे व्यवहार किया गया।

युवक का नाम पहले जितेन्द्र था, इस्लाम अपनाने के बाद उसने अपना नाम ‘इस्लाम’ बताया। बताया जा रहा है कि जब इस युवक का झुकाव इस्लाम के प्रति बढ़ने लगा तो फिर उनहोंने चेन्नई में शिफ्ट हो गया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

लेकिन जैसे ही उसके घरवालो को युवक के मुस्लिम बनकर चेन्नई में शिफ्ट होने की खबर मिली तो उसका परिवार चेन्नई पहुचकर युवक पर हिन्दू धर्म में वापस आने के लिए दवाब डालने लगा। उस युवक ने घरवालो द्वारा इस्लाम धर्म छोड़ने के दवाब डालने को लेकर अपने घरवालो के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है।

इस्लाम का कहना है कि उसके परिजनों ने उसे भावनात्मक रुप से ब्लैकमेल करने की कोशिश की,जिससे वह उनके साथ जाने के लिए तैयार हो गया। लेकिन वहां पहुंचकर इस्लाम के परिजनों ने उसे प्रताड़ित करना शुरु कर दिया और उसे वापस हिंदू धर्म में आने के लिए बुरी तरह मारा-पीटा.इस्लाम के परिजनों ने उसकी दाढ़ी और बाल कटवा दिए और उसे मंदिर जाने के लिए मजबूर किया। इसी बीच एक दिन इस्लाम मौका पाकर घर से भाग गया।

बता दें कि जितेन्द्र (इस्लमम) ने कुछ समय मुंबई के एक काल सेंटर में जॉब की थी,इस दौरान उसका एक मुस्लिम दोस्त उसे कुर्ला स्टेशन के नजदीक एक मौलवी के पास जाने लगा। मौलवी से इस्लाम के बारे में जानकारी से वो प्रभावित हो गया और 10 फरवरी, 2017 को धर्मांतरण कर इस्लाम स्वीकार कर लिया। इस्लाम का कहना है कि धर्मांतरण के बाद वह काफी खुश हैं और इसके बाद काफी समय मस्जिदों में गुजारने लगा हैं। जिससे उसे इस्लाम के बारे में और भी ज्यादा सीखने को मिला है। इतना ही नहीं इस्लाम ने इसके बाद अपनी जॉब छोड़ दी और इस्लाम धर्म के बारे में और जानने के लिए अहमदनगर के एक मदरसे में 2 महीने के एक पाठ्यक्रम में एडमिशन भी ले लिया।

Top Stories