दिल्ली: चोरी कर दो सगे भाई बन गए करोड़पति, गिरफ्तारी के बाद सुलझे 64 मामले

दिल्ली: चोरी कर दो सगे भाई बन गए करोड़पति, गिरफ्तारी के बाद सुलझे 64 मामले

नई दिल्ली के ईस्ट जिले के स्पेशल स्टाफ पुलिस ने ऐसे दो सगे भाइयों को गिरफ्तार किया है, जिन्होंने पिछले कुछ समय में यमुनापार में चोरी की घटनाओं से आतंक मचाया हुआ था।

गिरफ्तार आरोपियों का नाम कय्यूम (30) और अय्यूब (40) है। दोनों आरोपी नंद नगरी इलाके रहने वाले हैं। पुलिस की माने तो आरोपी अभी तक पूर्वी दिल्ली में 100 से अधिक वारदातों को अंजाम दे चुके है। पुलिस ने आरोपियों के पास से 26 लाख रुपये कैश, एक करोड़ रुपये का सोना (2.25 किलोग्राम), 405 ग्राम चांदी, 11 हाथ की घडिय़ां, सात मोबाइल फोन, 53 मास्टर की (चाबी) और भारी मात्रा में इलेक्ट्रॉनिक सामान बरामद किया है।

सुलझ गए 64 मामले

इनकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस 64 मामले सुलझाने का दावा कर रही है। आरोपियों ने चोरी के माल से कबीर नगर में 47 लाख और यमुना विहार में 65 लाख रुपये के दो मकान भी खरीद लिये थे। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है।

डीसीपी (ईस्ट) जसमीत सिंह ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से पूर्वी जिले में लगातार चोरी की वारदातें हो रही थी। जांच करने पर पुलिस को कई जगहों पर सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी मिली, लेकिन फुटेज साफ नहीं होने की वजह से आरोपियों की पहचान नहीं हो पाती थी। आरोपियों को पकड़ने के लिए लोकल पुलिस के अलावा जिले के स्पेशल स्टॉफ की टीम का भी गठन किया गया।

दिन में ही चोरी करता था कय्यू्म

टीम में इंस्पेक्टर सत्येंद्र खारी, एसआई केके शर्मा, एमके मनोज, आरएन पाठक के अलावा अन्य पुलिसकर्मी मौजूद रहें। टीम ने ईस्ट जिले के अलावा शाहदरा जिले की सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली। इसी बीच शुक्रवार को पुलिस को सूचना मिली कि कई वारदातों में शालिम आरोपी कड़कडड़ूमा कोर्ट के पास आने वाले हैं। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर अपना जाल बिछा लिया।

पुलिस ने दोनों आरोपी कय्यूम और अय्यूब को मौके पर आते ही दबोच लिया। कय्यूम मास्टर की से ही खोलता था ज्यादातर घरों का दरवाजा आरोपी कय्यूम ने बचपन में ही पढ़ाई छोड़ दी थी। इसके बाद से ही वह अपराधिक दुनिया में लिप्त हो गया। वह चोरी की वारदातों में इतना माहिर हो गया कि वह दिनदहाड़े चोरी की वारदातों को अंजाम दे देता था। वह केवल यमुनापार इलाके में ही घरों को अपना निशाना बनता था। ज्यादातर मामलों में आरोपी कय्यूम मास्टर की से घर का ताला खोलता था।

ताला न खुलने पर वह अय्यूब की मदद से ताला तोड़ देता था। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह पड़ोसियों से पूछताछ करने के बाद आसानी से टारगेट वाले मकान में घुस जाता था। अय्यूब बाहर खड़ा होकर लोगों पर नजर रखता था। खतरा होने पर वह कय्यूम को खबर कर देता था। पहले भी गिरफ्तार हो चुके है दोनों आरोपी आरोपी कय्यूम वर्ष 2015 में और अय्यूब वर्ष 2014 में गिरफ्तार हुए थे। कय्यूम एक मकान में चोरी की वारदात को अंजाम देने गया था।

उस दौरान घर में एक लड़की मौजूद थी। आरोपी को देखकर लड़की ने शोर मचा दिया। मौके पर मौजूद लोगों ने आरोपी को रंगे हाथ पकड़कर पुलिस को सौंप दिया। कय्यूम के खिलाफ पहले से 13 मुकदमे दर्ज है। जेल से आने के बाद उसने 100 से अधिक वारदातों को अंजाम दिया।

Top Stories