#MeeToo- एम जे अकबर के बचाव में उतरी उमा भारती

#MeeToo- एम जे अकबर के बचाव में उतरी उमा भारती
Click for full image

सागर: #MeeToo अभियान के तहत विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर पर महिलाओं द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों पर केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने अकबर का बचाव किया है. उमा ने यह मामला अकबर और महिलाओं के बीच का बताया है. दूसरी ओर कांग्रेस ने पीएम की चुप्‍पी पर सवाल उठाते हुए तंज कसा है कि वे शायद अपने राजनीतिक नफा-नुकसान का आकलन करने के बाद अकबर पर फैसला लेंगे.

विजयराजे सिंधिया ‘राजमाता’ की जन्म शताब्दी के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंची उमा ने संवाददाताओं द्वारा पूछे गए सवाल पर कहा, “वे इस मामले पर कुछ नहीं कहना चाहती. अकबर से जुड़ा मामला तब का है जब वे केंद्र सरकार में मंत्री नहीं थे. यह मामला पूरी तरह महिला और अकबर के बीच है. लिहाजा वे इस पर कुछ नहीं कह सकती.” पत्रकारों ने जब उमा से पूछा कि आप हमेशा महिलाओं के हितों की बात करती रही है, लेकिन इस मामले में पीछे हट रही हैं. केंद्रीय मंत्री इसके बाद भी इस पर कुछ नहीं बोली और चुप्पी साधे रखी.

इधर, कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘चुप्पी’ पर सवाल किया. पार्टी ने आरोप लगाया कि मोदी का नैतिकता से कोई मतलब नहीं है. पार्टी प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने यह भी दावा किया कि अगर प्रधानमंत्री को लगेगा कि उनकी ‘सल्तनत’ खतरे में है तो वह अकबर को हटाने से नहीं हिचकेंगे.

 

गोहिल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मोदी जी और नैतिकता साथ नहीं चल सकते. नैतिकता के आधार पर वह अकबर को नहीं हटाएंगे, लेकिन अगर उन्हें लगेगा कि उनके वोट बैंक को नुकसान हो रहा है तो वह अकबर को बर्खास्त कर देंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर मोदी जी को लगेगा कि उनकी सल्तनत खतरे में है तो वह अकबर का सिर कलम कर देंगे.’’

 

गोहिल ने यह भी कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘‘मी टू’’ अभियान से जुड़े सवालों को टाला नहीं, बल्कि स्पष्ट रूप से कहा है कि पार्टी की महिलाओं के मुद्दों पर क्या राय है.

Top Stories