Tuesday , November 21 2017
Home / Business / पेट्रोल की कीमत ने 3 साल का तोड़ा रिकॉर्ड, महंगाई काबू करने में नाकाम सरकार ने बुलाई बैठक

पेट्रोल की कीमत ने 3 साल का तोड़ा रिकॉर्ड, महंगाई काबू करने में नाकाम सरकार ने बुलाई बैठक

देशभर में रोजाना पैट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से आम जनता परेशान है। दिल्ली- मुंबई में पैट्रोल की कीमतें 3 साल के हाई लेवल पर पहुंच गई हैं। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 80 रुपए और दिल्ली में 70.38 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गई है।

ख़बरों के मुताबिक, महंगाई के मामले में पेट्रोल ने पिछले 3 सालों का रिकार्ड तोड़ दिया है। क्रूड में कमजोरी और रुपए में मजबूती के बाद जिस तरह से पैट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ रही हैं, पैट्रोलियम मंत्रालय ने इसे लेकर इमरजेंसी बैठक बुलाई है। बैठक में कीमतों की समीक्षा की जाएगी।

पैट्रोलियम मिनिस्टर धमेंद्र प्रधान का इस मामले पर कहना है कि डायनमिक प्राइस का फॉर्म्यूला बेहद ही पारदर्शी है, जिसे बदला नहीं जा सकता है। उनका कहना है कि इसका इसका फायदा तुरंत ग्राहकों को दिया जाता है। उन्होंने बताया कि आगे सरकार पेट्रोलियम प्रोडकट्स को जीएसटी के दायरे में लाने पर विचार कर सकती है।

पैट्रोलियम मिनिस्ट्री की इमरजेंसी बैठक बुलाने की खबर के बाद ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के शेयरों में गिरावट दर्ज हुई। दोपहर 3:15 बजे तक बीपीसीएल के शेयरों में 6.07 फीसदी, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के शेयरों में 4.97 फीसदी, आईओसी के शेयरों में 4.05 फीसदी और ओएनजीसी के शेयरों में 0.56 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई थी।

बता दें कि केंद्र सरकार ने इस साल 16 जून से देशभर में पैट्रोल-डीजल की कीमतों के मामले में डायनैमिक फ्यूल प्राइसिंग लागू किया था। इसके तहत पैट्रोल-डीजल की कीमतें 16 जून के बाद से हर रोज कच्चे तेल के दाम के हिसाब से बढ़ती-घटती हैं। इससे पहले हर 15 दिनों पर पैट्रोल-डीजल की कीमतों में कच्चे तेल की कीमत के आधार पर बदलाव किया जाता था।

TOPPOPULARRECENT