कर्नाटक: रिसर्च करने वाले अल्पसंख्यक छात्रों को हर महीने मिलेगी 25 हज़ार की मदद

कर्नाटक: रिसर्च करने वाले अल्पसंख्यक छात्रों को हर महीने मिलेगी 25 हज़ार की मदद
Click for full image

बेंगलुरु: कर्नाटक में पीएचडी और एमफिल करने वाले अल्पसंख्यक छात्रों के लिए खुशखबरी है। विश्वविद्यालयों में रिसर्च करने वाले छात्रों को पहली बार राज्य सरकार हर महीने 25 हजार रुपये की माली मदद दे रही है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

इस विशेष फैलोशिप के लिए बेंगलुरु में अल्पसंख्यक निदेशालय ने पहले चरण में 300 छात्र-छात्राओं का चयन किया है। विभाग के डाईरेक्टर अकरम पाशा ने कहा कि यूजीसी की तर्ज पर फैलोशिप शुरू किया गया है। ताकि रिसर्च के क्षेत्र में अधिक से अधिक अल्पसंख्यक छात्र आगे आएं।

कर्नाटक के विभिन्न विश्वविद्यालयों में पीएचडी और एमफ़िल के लिए पंजीकृत छात्रों ने फैलोशिप के लिए आयोजित इन्टरव्यू में भाग लिया। अल्पसंख्यक विभाग यह फैलोशिप पीएचडी ले लिए तीन साल जबकि एमफिल के लिए एक साल पर शामिल है।

छात्रों ने कहा कि मौजूदा दौर में अनुसंधान के लिए कई तरह के खर्च का भुगतान करने होते हैं। अल्पसंख्यक विभाग के इस कदम से रिसर्च स्कोलरों को काफ़ी मदद मिलेगी।

अल्पसंख्यक विभाग के डाइरेक्टर अकरम पाशा का कहना है कि अब तक केवल एससी, एसटी छात्रों को राज्य सरकार वित्तीय सहायता प्रदान करती थी।

लेकिन पहली बार अल्पसंख्यक छात्रों के लिए फैलोशिप शुरू किया गया है। पीएचडी और एमफिल में पंजीकरण के तुरंत बाद अल्पसंख्यक छात्र इस फैलोशिप के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

Top Stories