नफरत की आग में झुलसे मोहम्मद नूर शेख की हुई मौत

नफरत की आग में झुलसे मोहम्मद नूर शेख की हुई मौत
Click for full image

कर्नाटक: कर्नाटक: गुलबर्गा में कुछ दिन पहले कुछ लोगों ने 22 साल के जिस मुहम्मद नूर शेख को आग लगाकर जला दिया था, आज उसकी मौत हो गई है।

ये मामला 5 जुलाई का है, जब कुछ हिन्दू लोगों ने धोखे से नूर को एक जगह ले जाकर उसपर पेट्रोल डालकर आग लगा दी और वहां से भाग गए। इलाज के लिए उसे बेंगलुरु के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ से 5 दिन बाद उसकी मौत की खबर सामने आई है।

माना जा रहा है कि हिंदूवादी संगठनों ने गुलबर्गा में सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के मक़सद से यह हमला करवाया है। अस्पताल में भर्ती नूर ने अपने परिवार के सदस्यों को बताया था कि इस घटना को अंजाम देने के बाद हत्यारों ने किसी को फ़ोन करके कहा था कि गुलबर्गा वाला काम कर दिया गया है।

इस मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। नूर ने बताया था कि जब वह उस दिन अपने काम पर जा रहा था तो 4 लोग उसके पास आये और एक स्कूल का एड्रेस पूछने लगा। मैंने उन्हें समझा दिया लेकिन उन्होंने मुझे जबरदस्ती उनके साथ चलकर उनके वहां पहुंचाने के लिए कहा।

जब हम लोग वहां पहुंचे तो उन्होंने मुझपर पेट्रोल दाल कर आग लगा दी और वहां से भाग गए। नूर ने बताया था कि वे उन लोगों को जानता तक नहीं था, न ही उसने उस इलाके में उन्हें कभी देखा था। वे लोग दूसरे समुदाय से थे।

 

Top Stories