VIDEO: हसीन जहान के हर आरोप का शमी ने दिया जवाब, कहा- ‘मुझे धोखा दिया’

VIDEO: हसीन जहान के हर आरोप का शमी ने दिया जवाब, कहा- ‘मुझे धोखा दिया’

मोहम्मद शमी और हसीन जहां के विवाद में अब सारी परतें साफ होने लगी हैं। पत्नी के आरोपों को चुपकर झेल रहे शमी ने अब पलटवार किया है। शमी ने हर उस आरोप का जवाब दिया है जो उनकी पत्नी ने उनपर लगाए है।

शमी ने कहा कि उन्होंने हरसंभव प्रयास किया लेकिन उन्हें नहीं पता था कि हसीन उसे इस कद्र नंगा करेगी। मैंने हसीन की हर खुशी का ख्याल रखा। मैंने अपनी तरफ से हरसंभव प्रयास किया।

ऐसा कैसा हो सकता है। मैंने जब हसीन से शादी की थी तब कौन सा दहेज मांगा था। ऊपर से मैंने शादी के बाद हसीन की हर जरूरत का ख्याल रखा। आप देख सकते हैं- मेरे क्रैडिट कार्ड से हसीन शॉपिंग करती रही। खर्चा डेढ़ करोड़ से ऊपर हुआ। लेकिन मैंने कभी उसे नहीं टोका। दहेज मांगने का आरोप सरासर गलत है।

यह आरोप सरासर गलत है कि मेरे भाई ने हसीन का रेप करने की कोशिश की या मैंने हसीन से अपने भाई के साथ संबंध बनाने का दबाव डाला। अगर हसीन को ऐसा ही लग रहा था कि मैं उनपर दबाव डाल रहा हूं तो पहले ही उन्होंने क्यों विरोध नहीं किया।

मुझे पहले नहीं पता था कि हसीन की शादी हो चुकी है। हालांकि धीरे-धीरे उन्हें इसकी जानकारी दी गई। शुरुआत में हसीन ने उन्हें बताया था कि दोनों बच्चियां उनकी बहन की बेटियां हैं।

बहन के साथ बहुत बुरा हुआ है इसलिए वह ही इसकी परवरिश कर रही है। मैंने भी दोनों दोनों बच्चियों को अपनी बेटियों की ही तरह समझा। जैसे अपने बच्चों पर खर्च करते वैसे ही हसीन जहां की बेटियों पर खर्च किया।

एक बात साफ कर देना चाहता हूं कि मैं अपनी बेटी के लिए जान दे सकता हूं। मैं उसके भविष्य के लिए कुछ भी करूंगा। मेरे लिए मेरी बेटी ही सब कुछ है। मुझे अपनी बेटी का भविष्य देखना था।

घटनाक्रम के बाद से मेरे चार से पांच बंदे कोलकाता गए थे। क्योंकि हसीन के एडवोकेट का फोन आ रहा था कि वह मिलना चाहते हैं। मेरी भी फोन पर बात हुई थी।

हमारे बंदे वहां भटकते रहे लेकिन इन्होंने फोन नहीं उठाया। सुबह मिलेंगे, दोपहर मिलेंगे, टाइम नहीं है, शाम को मिलेंगे। अब जब हसीन बार-बार यह ही कही जा रही है कि समझौते की कोई गुंजाइश नहीं है। तो मैं क्या कर सकता हूं। नहीं पता था कि ये (हसीन जहां) इस नंगेपन पर उतरेगी।’ शादी बचाने की कोशिश खत्म हो चुकी है।

मैं जब भी खेला देश के लिए खेला। मैच फिक्सिंग के आरोप निराधार है। मैं फिर कहता हूं कि ऐसे काम करने से पहले मैं मर जाना पसंद करूंगा। मैं तो कहता हूं कि बीसीसीआई को इसकी पूरी जांच करनी चाहिए। अगर मेरा कोई कसूर है तो मुझे सजा मिले।

हसीन तो शुुरू से शक्की रही है। आरोप लगाना उसके शौक में से एक रहा है। मैं जब भी दुबई जाता था तो मैं हर गतिविधि हसीन के साथ शेयर करता था। व्हाट्सएप मैसेज इसका सबूत है।

दुबई से मैं जब भी लौटता था हसीन के लिए कुछ न कुछ लेकर आता था। कभी डायमंड तो कभी गोल्ड। कोई मेरी पत्नी को भड़का रहा है।

दरअसल मैं हसीन को दुबई ट्रिप का सरप्राइज देना चाहता था। नहीं चाहता था कि हसीन के सामने कोई कॉल आए। अगर हसीन मेरे साथ हो और किसी का कॉल आए तो यह स्वभाविक ही होता था कि हसीन पूछेगी जरूर कि किस का फोन था, क्या काम था आदि। ऐसे मैं मैंने प्लान सीक्रेट रखने के लिए फोन छुपाया था। लेकिन इसका ऐसा गलत मतलब निकाला जाएगा, नहीं मालूम था।

मैं क्रिकेटर हूं और क्रिकेटर की फैन फोलोइंग होती है। अलिस्बा सिर्फ मेरी फैन है। अगर उससे एक-दो बार मिला तो भी अपने दोस्तों के साथ मिला, जो अलिस्बा के भी दोस्त थे।

Top Stories