Sunday , April 22 2018

हसीन जहान के झूठ का सबसे बड़ा सबूत आया सामने, देखिए, मोहम्मद शमी को कैसे दिया धोखा!

पिछले दिनों अपने ऊपर पत्नी द्वारा लगाए गए आरोपों के कारण बीसीसीआई से सालना अनुबंध हासिल करने में नाकाम रहे मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां के धोखे का सबूत अब सामने आया है. यह सबूत सोशल मीडिया पर बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है.

और इस सबूत को देखने के बाद हसीन जहां के रवैये और इरादों पर भी शमी के चाहने वाले सवाल खड़े कर रहे हैं. वैसे शमी पर आरोप सही हैं या गलत, यह तो पुलिस की जांच के बाद ही साफ हो पाएगा लेकिन यह सबूत हसीन जहां पर सवाल खड़ा करने के लिए काफी है. 

आपको एक बार फिर से ध्यान दिला दें कि इस तेज गेंदबाज के खिलाफ पत्नी हसीन जहां ने धारा 307 (हत्या की कोशिश का आरोप), 498 ए (घरेलू हिंसा), 506 (आपराधिक धमकी), 328 (जहर के जरिए नुकसान पहुंचाना), 34 (कई लोगों द्वारा किसी अपराध को अंजाम देने के लिए साझा साजिश) और 376 (बलात्कार) सहित कई धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कराया है. अब यह मामला पुलिस की जांच के समक्ष विचाराधीन है और जांच रिपोर्ट सामने आना अभी बाकी है.
 

बहरहाल, हम उस सबूत पर लौटने से पहले आपको फिर से ध्यान दिला दें कि हसीन जहां मोहम्मद शमी के साथ निकाह से पहले एक और शादी कर चुकी हैं. इस शादी से उनकी दो बेटियां हैं, जिनके साथ वह आज भी संपर्क में हैं. इस बात को हसीन जहां ने पिछले दिनों ही स्वीकार किया था, जबकि हसीन जहां के पहले पति सैफुद्दीन आज भी कोलकाता में एक छोटी किराना की दुकान चलाते हैं. वहीं हसीन जहां खुद शमी से मुलाकात के समय आईपीएल में बतौर चीयरगर्ल काम करती थीं. लेकिन अब जो हसीन जहां के धोखे का सबूत सामने आया है, वह चौंकाता है. साथ ही, हसीन जहां के इरादों को लेकर भी सवाल उठाता है. 
 

दरअसल इन दोनों के निकाह का सर्टिफिकेट सामने आया है, यह प्रमाणपत्र बताता है कि इन दोनों का निकाह 7 अप्रैल 2014 को हुआ था. और इससे आप साफ तौर पर जान सकते हैं कि मेहर की रकम (तलाक की सूरत में वापस दी जाने वाली रकम) दस हजार रुपये तय हुई थी. सर्टिफिकेट यह भी बता रहा है कि हसीन जहां शमी से करीब छह साल बड़ी हैं. लेकिन इस प्रमाण पत्र में हसीन जहां के धोखे की भी साफ चुगली हो रही है. 

दरअसल इस प्रमाण पत्र में हसीन जहां ने खुद को बैचलर बताया है, जबकि उनकी दो पहले शादी तो हो ही चुकी थी. साथ ही उनकी दो बेटियां भी थीं. अब यह देखने की बात होगी कि मोहम्मद शमी को हसीन जहां के इस कदम का कानूनी रूप से कितना फायदा मिलता है.

साभार- ndtv इंडिया

TOPPOPULARRECENT