MP- मूक-बधिरों आश्रयगृह में रेप काण्ड में गर्भपात कराने वाले 4 डॉक्टरों समेत 9 लोग अरेस्ट

MP- मूक-बधिरों आश्रयगृह में रेप काण्ड में गर्भपात कराने वाले 4 डॉक्टरों समेत 9 लोग अरेस्ट

ग्वालियर: ग्वालियर में मूक-बधिरों के एक आश्रयगृह में 24 साल की युवती से बलात्कार और बाद में उसका गर्भपात कराने के मामले में चार डॉक्टरों सहित नौ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. इनमें से तीन डॉक्टरों सहित छह लोगों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है. ग्वालियर के बिलौआ पुलिस थाना प्रभारी अमित भदोरिया ने शुक्रवार को बताया, ”शेल्टर होम स्नेहालय में 24 वर्षीय मूक-बधिर युवती के साथ शेल्टर होम के ही चौकीदार साहब सिंह गुर्जर ने लंबे समय तक बलात्कार किया. इसके कारण युवती गर्भवती हो गई तो शेल्टर होम के संचालक डॉ. बीके शर्मा ने युवती का 19 सितंबर को गर्भपात करा दिया और सबूत मिटाने के लिए भ्रूण को जलाकर नष्ट कर दिया.”

बता दें कि इस मामले पीड़िता की उम्र भाषा न्यूज एजेंसी के मुताबिक 24 वर्ष है, जबकि एएनआई ने नाबालिग लड़की बताया है.

उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस ने चार एमबीबीएस डॉक्टरों सहित 9 लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (बलात्कार), 120-बी, 201 एवं 313 के तहत बिलौआ थाने में मामला दर्ज किया है.

भदोरिया ने बताया कि इनमें से तीन डॉक्टरों सहित छह लोगों को गुरुवार रात को गिऱफ्तार कर लिया गया. इनमें शेल्टर होम संचालक डॉ. बी के शर्मा, उनकी पत्नी डॉ. भावना शर्मा, डॉ. विवेक साहू, रवि वाल्मीकि, गिर्राज बघेल, मैनेजर जयप्रकाश शर्मा शामिल हैं.

उन्होंने कहा कि तीन आरोपी फरार हैं, जिनमें डॉ. पुष्पा मिश्रा, शेल्टर होम की वार्डन प्रभा यादव एवं बलात्कार का आरोपी चौकीदार साहब सिंह गुर्जर शामिल हैं. उन्हें पकड़ने के प्रयास जारी हैं. भदोरिया ने बताया कि स्नेहालय नाम का यह शेल्टर होम ग्वालियर में झांसी राजमार्ग पर स्थित है. स्नेहालय का संचालन डॉ. बी के शर्मा और उनकी पत्नी डॉ. भावना शर्मा करते हैं. इसे देश-विदेश से अनुदान भी मिलता है. उन्होंने कहा कि शेल्टर होम में रहने वाली सभी लड़कियों की मेडिकल जांच कराई जा रही है.

भदोरिया ने बताया कि 20 सितंबर को महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी राजीव सिंह को सूचना मिली थी कि एक मूक-बधिर युवती से बलात्कार किया गया है. इसके बाद अधिकारी ने स्नेहालय जाकर जांच की. उन्होंने कहा कि जांच में बलात्कार पीड़ित युवती एक कमरे में बेहोशी की हालत में मिली.

भदोरिया ने बताया कि अधिकारियों को स्नेहालय में रहने वाली दूसरी लड़कियों ने बताया कि एक दिन पहले डॉ. बी के शर्मा एवं उनकी पत्नी ने रात में युवती का गर्भपात कराया है. गर्भपात के बाद निकले भ्रूण को जलाकर नष्ट कर दिया गया. महिला एवं बाल विकास अफसरों ने तुरंत पुलिस को सूचना दी जिसके बाद मामला दर्ज किया गया.

Top Stories