Wednesday , December 13 2017

मोदी जी सिर्फ बातों के प्रधानमंत्री है- अब्बास अंसारी

शम्स तबरेज़,सियासत न्यूज़ ब्यूरो।
मऊ: उत्तर प्रदेश की राजनीति भी अलग अलग करवटे ले रही है। कभी कांग्रेस और समाजवादी पार्टी एक दूसरे के ​विरोधी रहने वाले आज एक दूसरे का प्रचार कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश की राजनीति में मुख्तार अंसारी एक जाना पहचाना नाम है। कोई मुख्तार को डॉन कहता है तो कोई गरीबों का मसीहा कहता है। एक समय था जब मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल का समाजवादी पार्टी में विलय हो चुका था, लेकिन शायद विचारों के टकराव की वजह से सपा और कौमी एकता दल ज्यादा दिन एक साथ नहीं रह सके। आगे चल कर बहुजन समाज पार्टी में कौमी एकता दल पार्टी का विलय हो गया और बसपा प्रमुख मायावती ने मुख्तार अंसारी, बड़े बेटे अब्बास अंसारी और बड़े भाई सिबगतुल्लाह को टिकट देकर पूर्वांचल की राजनीति में भूचाल पैदा कर दिया। मुख्तार अंसारी ने अपनी पराम्परागत सीट मऊ सदर से ताल ठोका तो उसने बेटे को मऊ ज़िले की घोसी विधानसभा से पहली बार किस्मत आज़माने का मौका मिला।
मायावती ने क्यों की अब्बास अंसारी की तारीफ?
मुख्तार अंसारी की तरह उनके बेटे अब्बास भी निशानेबाजी में माहिर हैं, इसका पता तब चला जब मायावती लखनऊ की रैली में अब्बास अंसारी के निशानेबाजी की तारीफ की। सियासत ने मऊ स्थित बसपा के कार्यालय में अब्बास अंसारी से बात की और उनका साक्षात्कार लिया।

राजनीति में आने की वजह?
साक्षात्कार में अब्बास अंसारी ने कहा कि उनकी नज़र में राजनीति जनसेवा है उनका खानदान बरसों से समाजसेवा की भावना से कार्य करता चला आ रहा है। अब्बास अंसारी ने कहा कि उनकी उम्र 25 साल हो गई और देश के संविधान के अनुसार अगर उम्र 25 साल हो गई हो और समाज की सेवा करना चाहते हैं तो राजनीति में उतरना होगा। सियासत से बात करते हुए अब्बास ने कहा कि बहेन जी से आर्शीवाद और लोगों की दुआएं लेकर समाजसेवा की भावना से राजनीति में उतर गया।

विकास पर अब्बास का नज़रिया?
सियासत ने जब उनसे घोसी के विकास के मुद्दो पर जानना चाहा तो अब्बास ने कहा कि घोसी विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुधाकर सिंह ने 5 साल में जो काम नहीं किया वो उन्हे पूरा करेंगे। अब्बास अंसारी के जवाब से ऐसा लगा मानों उनके पास को विकास के लिए कोई मुद्दा नहीं है।

जो बाप का नहीं हुआ वो आपका नहीं होगा!
सियासत से बात करते हुए अब्बास अंसारी ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बारे बोला कि नेता जी मुलायम सिंह यादव ने खुद ही कहा था कि जो अपने बाप का नहीं हुआ वो आपका नहीं होगा! अब्बास ने कहा कि बेटे का सबसे बढ़ा प्रमाण पत्र उसका बाप होता है।

क्या मुकदमों ने मुख्तार अंसारी को साईकल की सीट से उतारा?
मुख्तार अंसारी को टिकट नहीं देने के मामले में भेदभावपूर्ण रवैया के बारे में कहा कि अखिलेश की नज़र में अगर मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद दागी हैं तो गायत्री प्रजापती, विजय मिश्रा और दूसरे कई नेता भी दागी हैं। मुकदमा किसके उपर नहीं?

प्रधानमंत्री सिर्फ बातों के प्रधानमंत्री है
पीएम मोदी के शमसान और कब्रिस्तान के बयान पर कहा कि मोदी जी सिर्फ बातों के प्रधानमंत्री है। हिन्दुस्तान की सभ्यता रही है कि हिन्दू और मुसलमान एक साथ रहते है और एक साथ खाते पीते है। आगे भी ऐसे साथ रहेगें। चार मार्च को घोसी में मतदान होगा, अब जनता तय करेगी की उनके दिल में अब्बास और मुख्तार अंसार के लिए कितना प्रेम है?

TOPPOPULARRECENT