Tuesday , July 17 2018

UP: विधानसभा में पहुंचने वाले मुस्लिम विधायकों की संख्या इस बार सबसे कम

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मोदी लहर के सामने सूबे में मज़बूत सियासी ज़मीन और रसूख रखने वाले दलों का सूपड़ा साफ़ हो गया। लेकिन इन सब के बीच एक बड़ा सवाल मुस्लिम प्रतिनिधित्व का है। उत्तर प्रदेश में ये अब तक सबसे कम नम्बर है।

वहीँ भाजपा ने एक भी मुसलमान को टिकट नहीं दिया लेकिन बसपा ने 100 से अधिक और सपा ने 59 से अधिक मुसलमान प्रत्याशी मैदान में उतारे। लेकिन केवल 25 मुस्लिम प्रत्याशी ही जीत पाये। बात 2012 की करें तो 64 मुसलमान प्रत्याशी विधायक बने थे।

इस बार के चुनाव में सबसे अधिक 19 मुस्लिम प्रत्याशी सपा-कांग्रेस गठबंधन से जीते जबकि बसपा के महज 6 मुस्लिम प्रत्याशी ही विजयी हो सके। इससे पहले 1991 में राम मंदिर मुद्दे की वजह से विधानसभा में केवल चार प्रतिशत मुस्लिम विधायक ही पहुंच पाये थे। उसके बाद हुए चुनावों में मुस्लिम विधायकों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती गयी लेकिन 2017 की मोदी लहर ने इस पर ब्रेक लगा दिया।

दिलचस्प पहलू ये भी है कि मुस्लिम बहुल आबादी वाले देवबंद में इस बार भाजपा का परचम लहराया। यहां भाजपा के कुंवर बृजेश ने बसपा के माजिद अली को 20 हजार मतों के अंतर से हराया।

बड़े नामों की बात करें तो सपा सरकार में मंत्री रहे आजम खां रामपुर सीट बचाने में सफल रहे जबकि उनका बेटा अब्दुल्ला आजम स्वार सीट पर जीता। बाहुबली मुख्तार अंसारी मऊ सीट पर बसपा के टिकट पर विजयी हुए।

TOPPOPULARRECENT