Tuesday , November 21 2017
Home / Khaas Khabar / मुस्लिम एकता मंच की मीटिंग में उलेमा बोले- आज़ादी में हमने बहाया है खून, अधिकार में कटौती मंजूर नहीं

मुस्लिम एकता मंच की मीटिंग में उलेमा बोले- आज़ादी में हमने बहाया है खून, अधिकार में कटौती मंजूर नहीं

झारखंड के जमशेदपुर में रविवार की शाम बेहद खास गुज़री जब एक ही मंच को हर मकतब-ए-फिक्र के उलेमाओं ने साझा किया। और देश में मुसलमानों के साथ हो रही बर्बरता पर अपनी-अपनी बाते रखते हुए एक शांतिपूर्ण महासभा का सफल आयोजन किया।

दरअसल, मुसलमानों को मोत्तहिद करने के लिए जमशेदपुर में ‘मुस्लिम एकता मंच’ का गठन किया गया है जिसमें तमाम मसलक के उलेमा हजरात मिलकर क़ौमी फिक्र को अंजाम दे रहे है। इसी के तहत मुस्लिम एकता मंच ने रविवार 7 मई की शाम को जमशेदपुर स्थित गांधी मैदान में एक इंसाफ महासभा का आयोजन किया।

इससे पहले बजरंगदल द्वारा इस महासभा के आयोजन पर रोक लगाने के कई प्रयास किए जा चुके थे। लेकिन उलेमाओं और इंसाफ महासभा के वॉलेंटियर बाबर खान, फिरोज खान, शेख फरीद वगैरह की जमीनी मेहनत रंग लाई और इंसाफ महासभा को जमशेदपुर उपायुक्त की हरी झंडी मिली।

इस महासभा में तमाम मसलक के उलेमाओं समेत जमशेदपुर और इसके आसपास के लगभग 60 हजार से अधिक लोग गांधी मैदान पहुंचे, जैसे मानो एक जन सैलाब उमड़ पड़ा था। सभी के हाथों में तिरंगा था। स्टेज भी राष्ट्र ध्वज की तरह सजी थी। गंगा-जमुना संस्कृति को दर्शाते सड़कों के किनारे दुकानदार और बहुसंख्यकों की भीड़ भी काफी तादाद में थी।  इसके बाद उलेमाओं की तकरीर शुरु हुई, जिनमें ये बातें कहीं गई-

– मुस्लिम युवाओं को आतंक से जोड़कर देखा जाता है। गोहत्या के आरोप में हमले हो रहे हैं। जो मुजरिम हैं उसे सूली पर चढ़ा दो, लेकिन हर मुसलमान को दाउद न समझा जाए।

– जंग-ए-आजादी में मुसलमानों ने भी कुर्बानी दी है। इस्लाम अमन का संदेश देता है, इसलिए किसी भी सूरतेहाल में युवा हिंसा की राह पर न जाएं। और सरकार हमें आतंकवाद की नजर से न देखें,  हम अपने वतन के रखवाले है।

– मुसलमानों का डीएनए भारतीय मूल का है, चाहो तो इसे टेस्ट करा लें।

– हम हिंसा से परे कानुन को तरजीह दी है, हमें देश के न्याय प्रणाली पर विश्वास है, परंतु आए दिन मुसलमानों के प्रति दोहरी नीति इसकी विश्वसनीयता को खोखली कर रही है।

– आजादी में हमने बढकर बहाया है खुन, अधिकारों में कटौती मंजुर नहीं।

आज भले ही हम उलेमाओं को लाख बुरा-भला कह ले। लेकिन सच यही है की आज भी क़ौम की ख़िदमात जो वो लोग कर रहे हैं उसकी मिसाल नहीं मिलती। जमशेदपुर इसका जीता-जागता उदाहरण है।

इस महासभा ने उस वक्त सबका ध्यान आकर्षित किया जब तमाम मसलक के उलेमाओं समेत सभी लोगों ने मगरिब की नमाज़ एक ही मैदान में कंधे-से-कंधा मिलाकर पढ़ा। और मुल्क के अमन-ओ-सुकुन के लिए दुआएं मांगी। और फिर हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारों से पूरा मैदान गुंजने लगा।

बेशक यह एक सराहनीय प्रयास है। कौम को फिरकापरस्ती से दूर एक सही राह दिखाने की। मोत्तहिद होकर अपने हुकुक के लिए आवाज़ बुलंद करने की। ये एक सदा है जो केवल जमशेदपुर तक सीमित नहीं रहनी चाहिए। बल्कि इसकी गुंज देश के कोने-कोने तक पहुंचनी चाहिए। ताकि हम मुसलमान एक हो जाएं,  इंशाअल्लाह उलेमाओं की यह मेहनत जरुर रंग लाएगी।

 –अशरफ हुसैन की फेसबुक वॉल से

TOPPOPULARRECENT