नफ़रत के दौर में यहाँ के मुसलमानों ने पेश की मिसाल, अमन-चैन के लिए लिया ताजिया नहीं निकालने का फ़ैसला

नफ़रत के दौर में यहाँ के मुसलमानों ने पेश की मिसाल, अमन-चैन के लिए लिया ताजिया नहीं निकालने का फ़ैसला
Click for full image

आपसी भाईचारे को बनाए रखने के लिए एक बार फिर इलाहाबाद के ताजियादारों ने ताजिये नहीं उठाने का फैसला लिया है । रामलीला और दशहरा को देखते हुए इलाहाबाद की मुहर्रम कमेटी की बैठक में ये फ़ैसला लिया गया है । ये पहली बार नहीं है जब शहर में ताजिये नहीं उठाने का फ़ैसला लिया गया हो।

इलाहाबाद शहर के 2 प्रमुख ताजिया समितियों ने साल 2015-16 में भी ताजिये के जुलूस नहीं नहीं निकाले थे । मुस्लिम कमेटियों ने यह फैसला हिंदू पर्व दशहरा के मद्देनजर लिया था और इस साल भी ऐसा ही फ़ैसला किया गया है ताकि किसी तरह की अप्रिय स्थिति ना बन पाए और शहर का अमन चैन बना रहे ।

Top Stories