Thursday , December 14 2017

म्यांमार: ईसाईयों पर ख़तरे की आशंका से पॉप फ्रांसिस ने अपने भाषण में रोहिंग्या मुस्लिम का ज़िक्र नहीं किया

ईसाइयों के आध्यात्मिक गुरु पोप फ्रांसिस ने म्यांमार में अपने एक महत्वपूर्ण भाषण में मुस्लिम रोहिंग्या समुदाय पर विशेष उल्लेख के बिना ही हर जातीय समूह के लिए एक समान सम्मान करने का आह्वान किया। जबकि मानव अधिकार के लिए काम करने वाले समूहों ने पॉप फ्रांसिस पर जोर दिया था कि वह रोहिंग्या समुदाय के समर्थन में अर्थपूर्ण शब्द इस्तेमाल करें।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

लेकिन म्यांमार के कैथोलिक चर्च ने उन्हें कहा था कि अर्थपूर्ण शब्द के उपयोग से देश में कैथोलिक ईसाईयों के लिए कठिनाइयां पैदा हो सकती हैं। म्यांमार पर रोहिंग्या मुसलमानों के नस्लवाद का आरोप है और इसी स्थिति के कारण करीब 6,20000 रोहिंग्या मुसलमान अगस्त में देश छोड़ने के लिए मजबूर हुए हैं।

म्यांमार की सरकार ने उन लोगों ‘बंगाली’ करार दिया है। उनका कहना है कि ये लोग अवैध तरीके से बांग्लादेश से विस्थापन करके आए हैं, इसलिए उन्हें नस्लीय समूहों की सूची में शामिल नहीं किया जाना चाहिए। हालांकि पोप फ्रांसिस ने सीधे तौर पर रोहिंगिया मुसलमानों हवाला नहीं दिया लेकिन उनका भाषण जातीय समूहों की रक्षा के बारे में था।

TOPPOPULARRECENT