Monday , May 21 2018

अरब के रेगिस्तान में मिला रहस्मय पत्थर “गेट्स”

अरब के रेगिस्तान में आर्कियोलोजिस्ट ने हज़ारों साल पुराने रहस्यमय पत्थरों की संरचना की खोज की है। वे मानते हैं कि इन पत्थरों का निर्माण खानाबदोश जनजातियों ने किया था।सऊदी अरब में हरट्र खायबर के ज्वालामुखी क्षेत्र के आसपास लगभग 400 पत्थर की संरचनाएं पायी गयीं हैं उपग्रह छवियों से फ़ील्ड गेट के समान होने के कारण उनको गेट्स उपनाम दिया गया है।

इन पत्थरों को लेकर शोधकर्ता उलझन में थे कि इन संरचनाओं को लिए किसके लिए इस्तेमाल किया और किसने उन्हें बनाया, और यदि वे सबसे पुराने “पुराने पुरुषों के काम” थे, जो कि प्राचीन भूगोल से संबंधित हैं जो सीरिया से सऊदी अरब तक फैले हुए हैं।

वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय में पुरातत्व के प्रोफेसर डॉ डेविड कैनेडी ने कहा, “हम सऊदी अरब को रेगिस्तान के तौर पर देखते हैं। लेकिन सच में वहां से एक विशाल पुरातात्विक खजाना बाहर निकलता है और इसे पहचानने और मैप करने की जरूरत है

यूनिवर्सिटी ओफ़ वेस्टर्न औस्ट्रेलिया ने द न्यूयॉर्क टाइम्स के एक  लेख में कहा कि आप जमीनी स्तर से उन्हें बहुत अच्छी तरह से नहीं देख सकते हैं, लेकिन एक बार जब आप कुछ सौ फुट उठते हैं, या उपग्रह के साथ भी ऊंचे होते हैं, तो वे खूबसूरती से उभर कर आते हैं।

डॉ कैनेडी ने द्वारा लिखा गया एक पेपर अरबी पुरातत्व और एपिग्राफी पत्रिका के नवंबर अंक में पब्लिश होने के लिए तैयार हैं।

डॉ कैनेडी 1997 से जॉर्डन के लावा क्षेत्र या हरात्र पर फैले हुए कोणीय और पहिया-समान संरचनाओं का अध्ययन कर रहे हैं, लेकिन प्रवेश प्रतिबंधों के कारण पड़ोसी सऊदी अरब में प्राचीन ढांचे पर अधिक बारीकी से देखने का अवसर नहीं था।

डॉ। कैनेडी ने कहा ने बताया कि हमें ख़ुशी होगी कि हम साऊदी अरब में आसमान में जाकर कुछ तस्वीरें ले सकें। लेकिन कभी भी अनुमति नहीं मिलती है, “और तब साथ में गूगल धरती आता है।” 2004 में पत्थर की संरचना का रहस्य तब शुरू हुआ जब सऊदी अरब में शौकिया पुरातत्वविदों के एक समूह रेगिस्तानी दल के एक न्यूरोलॉजिस्ट और संस्थापक डा अब्दुल्ला अल-सईद ने हररात के लावा क्षेत्र का पता लगाया उन्होंने देखा कि पत्थरों की दीवारें लगभग तीन फीट ऊंची खड़ी हैं, लेकिन उन्होंने कहा कि उस समय वे अपने अद्वितीय डिजाइन की सराहना नहीं करते।

 

 

TOPPOPULARRECENT